अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान | Advantages and Disadvantages of Eating Ashwagandha | Ashwagandha Ke Fayde or Nuksan

अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान , Advantages and Disadvantages of Eating Ashwagandha , Ashwagandha khane Ke Fayde or Nuksan , अश्वगंधा के फायदे , अश्वगंधा खाने के बेनेफिट्स , अश्वगंधा खाने के लाभ , अश्वगंधा खाने से कोनसी बीमारिया दूर होती है , सलाजित और अश्वगंधा खाने से क्या फायदे होते है , अश्वगंधा का साइड इफेक्ट होता है क्या , शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे , हल्दी और अश्वगंधा के फायदे , अश्वगंधा और मिश्री के फायदे ,पतंजलि अश्वगंधा पाउडर के फायदे , अश्वगंधा पाउडर के फायदे इन हिंदी , होम्योपैथिक अश्वगंधा के फायदे , डाबर अश्वगंधा कैप्सूल के फायदे , अश्वगंधा के बीज का उपयोग , Benefits And Harms of Ashwagandha ,

Ashwagandha khane Ke Fayde or Nuksan – पुरे विश्व भर में प्रसिद्ध अश्वगंधा को सबसे गुणकारी जड़ी बूटी माना गया है अश्वगंधा का इस्तेमाल करने से आपके शरीर के अंदर बहुत सी बीमारियों को दूर करने में लाभदायक है अश्वगंधा में कई गुण मोजूद होते है जैसे केल्शियम , मैग्नीशियम , पोटेशियम तथा कार्बोहाइड्रेट जैसे तत्व भरपूर होते है इसके नियमित इस्तेमाल करने से आपको लीवर टोनिक ,एंटी ओक्सिडेंट , तथा बेक्टीरिया को मरने में भी काफी सहायक है आयुर्वेद में अश्वगंधा और शतावरी को बहुत ही लाभदायक जड़ी बूटी माना है अश्वगंधा में बहुत से ओषधिय गुण पाए जाते है जोकि आपको बोडी को मेंटेन करने तथा बीमारियों को दूर करने में काफी सहायक है

अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान

इसका सेवन करने से बहुत से फायदों के साथ साथ निक्सन भी होते है इसका सेवन आप सिमित मात्रा में ही करना चाहिय चलिय फ्रेंड्स हम आपको इस आर्टिकल के जरीय बताते है की आप अश्वगंधा का इस्तेमाल कैसे करना है और इसे कितनी मात्रा में करना है , और अश्वगंधा को कब और कैसे उपयोग में लेना है इन सभी सवालों के जवाब आपको मिलेंगे इसलिय आप इस आर्टिकल को लास्ट तक जरुर देखना

Table of Contents

अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान | Benefits And Harms of Ashwagandha

हमारे देश में अश्वगंधा का नाम तो सभी से सुना है मगर इसके गुणों के बारे में हर किसी को पता नही है क्योकि आयुर्वेद कहता है की अश्वगंधा के अंदर ऐसे बहुत से विटामिन्स , प्रोटीन एवं मिनरल्स पाए जाते है जोकि आपकी बोडी को डी टोक्सीफाई करने में मदद करता है बोडी को कण्ट्रोल करने में जड़ी बूटिया भी काम करती है और इसके सेवन करने से आपका दुबला पतला शरीर को हेल्दी एवं वजन बढ़ाने में काफी मदद करता है अश्वगंधा के फायदे होने के साथ साथ नुकसान भी होता है मगर इसके लिय आपको निचे बताए जाने वाले नियमो के अनुसार ही आपको इसका सेवन करना है

(अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान) अश्वगंधा क्या है What is Ashwagandha

विश्वभर में ( Ashwagandha khane Ke Fayde or Nuksan ) अश्वगंधा को कई लग अलग नमो से पुकारते है मगर फायदे सबको समान रूप से मिलता है बाजारों में अश्वगंधा को नकली प्रोडक्ट भी बहुत से है मगर इसकी पहचान करना भी बहुत आसान है इसकी पहचान करने के लिय आप अश्वगंधा के पत्तो को आपस में रगड़न देने से आपके हाथो में घोड़े के मूत्र जैसी दुर्गंद देखने को मिले तो आप जान लेना की आपका अश्वगंधा ओरिजनल या असली है इस पोधे में बहुत ज्यादा गंद आती है इसके दो प्रकार होते है जोकि घने जंगलो में पाए जाते है साथ में आप अश्वगंधा की खेती भी कर सकते हो जो आप खेती में अश्वगंधा को उगाते हो वो आपके शरीर के लिय बहुत ही फायदेमंद है अश्वगंधा के दो प्रकार इस प्रकार है

1 . छोटा अश्वगंधा :-ये बहुत ही बेस कीमती जड़ी बूटी होती है इसका उत्पादन राजस्थान के नागौर जिले में देखने को मिलाती है वहा पर जलवायु के उप्जौपन के कारन वहा पर इसका पोधा झड के समान लम्बा और ऊँचा होता है मगर इनकी जड़े छोटी होती है इसलिय इसे छोटी अश्वगंधा कहते है

2 . बड़ी अश्वगंधा : – इस अश्वगंधा की खेती तो कम होती है लेकिन ये भारत के तटवर्ती इलाके जैसे जम्मू कश्मीर का लधाख जिले में तथा सिकिम , मिजोरम , अरुणाचल प्रदेश के इलाको में जंगल इलाका बहुत ज्यादा होने के कारन वहा पर बहुत ज्यादा मात्रा में पाई जाती है वहा पर इनका पोधा आकर में बहुत बड़ा होता है और जड़े भी खूब लम्बी होती है इसके कारण उन्हें बड़ी अश्वगंधा कहते है

Ashwagandha khane Ke Fayde or Nuksan

प्रजातियों में अश्वगंधा के प्रकार ( अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान )

अश्वगंधा को प्रजातियों की नजर से देखा जाए तो इनकी दो प्रजातीय होती है जो की हमारे देश के अलग अलग क्षेत्रो में अलग अलग प्रकार की प्रजातिया होती है

1 . अश्‍वगंधा Withania Somnifera अश्‍वगंधा :- उतरी भारत में इस प्रजाति के पोधे ज्यादा देखने को मिलते है इस पोधे की लम्बाई और ऊंचाई 2 से 4 मीटर के बिच ज्यादातर देखने को मिलती है इसका रंग गहरा धूसर व् भूरे रंग का नजर आता है इसका पोधा बिलकुल सीधा होता है ये देखने में कंटीली झाड़ी से समान होता है

2 . Withania Coagulans अश्वगंधा :- इस अश्वगंधा पोधे की लम्बाई और चोड़ाई WITHANAI SOMNIFERA से कम होता है इसका आकार 1 से 2 मीटर के बिच ही देखने को मिलता है ये पूर्वी भारत के राज्यों में देखने को मिलता है आयुर्वेदिक ओषधियो में अश्वगंधा का बहुत से रोगों को दूर करने में प्रयोग किया जाता है बहुत ही बेस कीमती जड़ी बूटी माना जाता है

अश्वगन्धा के फायदे | Benefits of Ashwagandha for Home Remedies ( अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान )

अश्वगंधा हमारी सेहत के लिय बहुत् ही उपयोगी है इसके इस्तेमाल करने से आपका दुबला पतला शरीर मोटा मजबूत हड्डिय प्रदान करता है इसमें और भी बहुत से गुण मोजूद होते है जो की आपकी बहुत सी बीमारियों को जड़ से निकालने में काफी सहायक है आपकी शारीरिक क्रिया को बनाए रखता है तथा सेक्स से समन्धित जो भी आपकी परेशानिया है उनके लिय बहुत सी फायदेमंद है अश्वगंधा के और भी बहुत से फायदे है जिनके बारे में चर्चा हम अब निचे करंगे

Ashwagandha khane Ke Fayde or Nuksan

1 . कोलेस्ट्रोल को घटाने में अश्वगंधा का इस्तेमाल

इसका प्रयोग आपके शरीर में जो कोलेस्ट्रोल को बनाए रखने में काफी मदद करता है आपके गाढे रक्त को पतला करता है जिससे आपको बल्ड प्रेशर और हार्ट अटैक की प्रोबलम कभी नही होगी अश्वगंधा में एंटी ओक्सिडेंट का कार्य करता है जो की आपकी बोडी को रिलेक्सिबल करने एवं बोडी के अंदर जमे फैट को बाहर निकलकर आपको एक सुन्दर सुडोल बोडी प्रदान करता है कोलेस्तोल का ph मान बनाए रखने में काफी सहायता है आयुर्वेद कहता है की आप अगर एक टाइम अश्वगंधा के चूर्ण का सेवन दूध या पानी के साथ करते हो तो आपका बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रोल लेवल बिलकुल सामान्य कर देगा आपको इस प्रयोग का इस्तेमाल सिमित मात्रा में ही करना है

2 . नींद न आने की समस्या में आप अश्वगंधा का सेवन करे

दोस्तों आप रत की नींद या दोपहर की नींद आपको बिलकुल नही आती है तो आप सुबह श्याम दोनों तिम्मे खाना खाने के बाद अश्वगंधा चूर्ण का इस्तेमाल करे जिससे आपके अंदर जो स्ट्रेस या तमन की प्रोबलम है उनको जड़ से निकालने में सहायक है इसलिय आप रोजाना एक चमच दूध या गुनगुने पानी के साथ मिलकर पीना है जिससे आपको जल्द ही आराम मिलेगा

3 . मानसिक तनाव से मुक्त करने में अश्वगंधा का प्रयोग

आप किसी प्रकार के तनाव से परेशान है जिससे आपको बुख न लगाना या फिर नींद की समस्या होना और भी कई समस्या आपके दिमाग में बुरे ख्याल घूमते है तो आप दोस्तों जरुर अश्वगंधा चूर्ण को रोजाना सुबह और श्याम दूध या गुनगुने पानी केसाथ लेना है जिससे आपको तनाव से बहुत जल्द मुक्ति मिलेगी और आपना मन बिलकुल हल्का रहेगा और साथ में नींद भी खूब आएगी क्यों की अश्वगंधा चूर्ण के अंदर बहुत से विटामिन और प्रोटीन जैसे बहुत से पोषक तत्व मोजूद होते है जिससे आपकी बोडी के सभी अंगो का संतुलन बनाए रखता है

4 . डायबिटीज या मधुमेह के उपचार में अश्वगंधा चूर्ण | Ashwagandha Powder Benefits in Fighting with Constipation in Hindi

अश्वगंधा के वैसे बहुत से फायदे है जो आपकी बोडी की प्रत्येक क्रिया के लिय आवश्यक है अगर आप डायबिटीज के रोगी को शुगर लेवल की संख्या ज्यादा हो जाती है उनको परहेज के साथ आप एक चमच दूध या गुनगुने पानी के साथ अश्वगंधा चूर्ण पावडर को नियमित रोप से देते हो तो कुछ ही दिनों में उस रोगी को आराम देखने को मिलेगा धीरे धीरे शुगर लेवल control होगा क्योकि अश्वगंधा चूर्ण में एंटी ओक्सिडेंट के तत्व मोजूद होते है और जैसे इसमें पोटेशियम और मैग्नीशियम से कण भी होते है जोकि डायबिटीज या शुगर लेवल को मेंटेन करता है

5 . वजन बढ़ाने में अश्वगंधा का प्रयोग | Ashwagandha Uses to Cure Body Weakness in Hindi

अश्वगंधा को आयुर्वेद बहुत ही बेस कीमती जड़ी बूटी मनाता है आयुर्वेद कहता है की आपके परिवार में कोई भी व्यक्ति या बच्चा दुबला – पतला है और वे कमजोरी के कारन पढने में भी बिलकुल कमजोर है तो दोस्तों उस बच्चे को आप अश्वगंधा चूर्ण के साथ सतावरी का चूर्ण रोज सुबह श्याम खाना खाने के बाद या फिर आपके हिसाब से जो टाइम अच्छा हो उस टाइम दूध या गुनगुने पानी में एक चमच इस मिक्स किय हुए चूर्ण की मिलाकर अगले 20 से 25 दिनों तक नियमित रूप से देते हो तो आपका दुबला पतला शरीर बिलकुल वजनदार और बहुत ही हेल्दी नजर आना शुरू हो जाएगा

क्या है की अश्वगंधा और शतावरी आपके पेट के अंदर जितने भी बेक्टीरिया है इन्फेक्शन है उनको मरने का कम करता है और आपको भूख बढ़ाने में भी बहुत कामगार है इसलिय आप अश्वगंधा चूर्ण को जरुर लेना चाहिय और आप इसका सेवन कुछ सिमित मात्रा में ही करना है ज्यादा सेवन करने से इसके इन्फेक्शन भी होते है

6 . सफ़ेद बालो को काला करने में अश्वगंधा का प्रयोग | Ashwagandha Powder to Stop Gray Hair Problem

अश्वगंधा में ऐसे बहुत से गुण मोजूद होते है जिसे आपके हार्मोन्स को बढ़ाने में कम करता है हमारे सिर के बल सफ़ेद होना केल्शियम और जिंक लावन व् हार्मोन्स की वजह से बल समय रहते हुए भी सफ़ेद होना शुरू हो जाते है उनके लिय अश्वगंधा बहत ही बेस कीमती जड़ी बूटी है आयुर्वेदिक ओषधियो में अश्वगंधा चूर्ण का इस्तेमाल बहुत सी बीमारियों को जड़ से मिटाने के लिय किया जाता है आप फ्रेंड्स अगर सुबह श्याम दूध के साथ एक चमच अश्वगंधा चूर्ण मिक्स करके पिने से धीरे धीरे आपकी जो सफ़ेद बालो की समस्या है वो बिलकुल ख़त्म हो जाएगी क्योकि अश्वगंधा हमारी बोडी के लिय एंटी ओक्सिडेंट का कम करता है और ये ना ही किसी प्रकार का साइड इफेक्ट करता है

7 . गलगंड व् थायराइड के उपचार में अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग

dओस्तो अगर आपके गले से समन्धित कोई भी समस्या जैसे गल्ले की थायराइड , गल्ले का सुजन , गल्ले की खराश , गलगंड रोग से परेशान हो तो आप बिलकुल आराम से इन रोगों को मिटाने के लिय आप श्व्गंधा चूर्ण पावडर का सेवन सुबह खली पेट करते हो तो आपके गल्ले या कंठ से सम्संधित कोई भी परेशानी है उनको दूर करने में बहुत ही लाभदायक है साथ में गल्ले पर आपके किसी प्रकार का सुजन है तो आप अश्व्गंषा के पत्तो को पीसकर उसके लेपन को वहा पर लगाने से भी आपको तुरंत आराम मिलता है

8 . आँखों की सभी बीमारियों को दूर करने में अश्वगंधा का इस्तेमाल

दोस्तों अगर आपको आँखों से देखने में कोई भी प्रकार की समस्या है जैसे आँखों के आगे धुंधला दिखाई देना या फिर आँखों से दूर की वस्तुए कम दिखाई देना , जलन , या फिर आँखों में पानी आना ऐसी कोई भी प्रोबलम है तो आप एक चमक अश्वगंधा चूर्ण , एक चमच मिश्री , एक चमच आंवला चूर्ण और एक चमच मुलेठी का चूर्ण इन सब को एक कटोरी में मिलकर आपस में एक मिश्रण तैयार कर लेना है अब आप सुबह उठते ही पानी के साथ और रात को सोते समय दूध के साथ इस मिक्सर की एक चमच मिलकर पिने से आपके आँखों से समन्धित जो भी बीमारिया है वे आपकी जड़ से ख़त्म हो जाएगी

9 . टीबी रोग का उपाय अश्वगंधा चूर्ण

इस चूर्ण पावडर के इस्तेमाल से हमारी बोडी के अंदर बहुत सी बीमारियों को दूर करता है टीबी भी एक खतरनाक बीमारी है जिससे आपके लंग्स या फेफड़े बिलकुल कमजोर हो जाते है जिससे आपको साँस लेने में बहुत तकलीफ होती है इस परेशानी का रामबाण उपाय अश्वगंधा चूरण है आप नियमित रूप से 2 से 3 ग्राम इस चूर्ण का इस्तेमाल पानी के साथ करते हो तो आपको टीबी रोग का उपचार घर बेठे किया जा सकता है और साथ में आपको नशीले पदार्थो का सेवन का भी परहेज करना है जिससे आपको जल्द ही आराम मिलेगा

10 . खासी झुकाम के लिय अश्वगंधा का इस्तेमाल | Benefits of Ashwagandha in Blood Related Disorder in Hindi

फ्रेंड्स आपको कितनी भी पुराणी खासी या झुकाम हो उसके लिय आप एक पुराना गुड लिजिय उस गुड का एक छोटा टुकड़ा लेना है उसको आप पानी के अंदर उबलना है उसमे अब एक चमच अश्वगंधा चूर्ण को मिलकर रोज रात को खाना खाने के बाद करना है तो आपको पुराणी से पुराणी खासी झुकाम जड़ से ख़त्म हो जाएगी आप साथ में चिकने पदार्थो का सेवन ना करे

11 . सिने या छाती के दर्द के आराम में अश्वगंधा का प्रयोग | Ashwagandha Powder Helps getting Relief from Chest Pain

आपको सिने या छाती में किसी प्रकार का दर्द रहता है तो आप 2 से 3 ग्राम अश्वगंधा की जड़ो का चूर्ण लेना है उसको आप गुनगुने पानी के साथ रोजाना 3 से 4 दिनों तक इस्तेमाल करना है जिससे आपको छाती का दर्द बिलुल ख़त्म हो जाएगा

12 .पेट की बीमारियों के लिय अश्वगंधा चूर्ण

अश्वगंधा चूर्ण बोडी को डी टोक्सीफाई करने में मदद करता है ये आपके पेट से समन्धित कोई भी बीमारी जैसे पेट दर्द होना , पेट की गैस या कब्ज की समस्या या फिर खाने के बाद खटी डकार आना ऐसी कोई भी प्रोबलम है तो आप खाना खाने के बाद एक चमचा दूध या पानी के साथ अश्वगंधा चूर्ण को ले सकते है इससे आपके पाचन तंत्र को मजबूत करता है और पेट के अंदर जो भी बेक्टीरिया है उनको मारने में भी सहायक है

13 . ल्यूकोरिया ( सफ़ेद पानी का गिरना ) के उपचार में रामबाण उपाय – अश्वगंधा चूर्ण | Ashwagandha Root Benefits to Cure Leukorrhea in Hindi

आपको ल्यूकोरिया की समस्या है तो आप सुबह श्याम गाय के दूध के साथ अश्वगंधा की जड़ो का चूर्ण मिश्री के साथ मिलकर रोजाना अगले 15 से 20 दिनों तक इस्तेमाल करते हो तो आपको जल्द ही आराम मिलेगा और आपका शरीर भी सुडोल व् मजबूत होगा आपना पाचन भी अच्छी तरह से होना शुरू हो जाएगा

14 . शारीरिक कमजोरियों को दूर करने में अश्वगंधा चूर्ण का प्रयोग

अश्वगंधा में बहुत से पोषक तत्व मोजूद होते है जोकि आपकी बोडी के अंदर जिन तत्वों की कमी है उनकी पूर्ति करता है अश्वगंधा के अंदर केल्शियम , मैग्नीशियम , पोटेशियम और कई मिनरल्स पाए जाते है जिससे आपको डायजेशन से समन्धित कोई भी प्रकार की परेशानी नही होगी आप सुबह खली पेट गाय के दूध में गाय का घी , गुड और अश्वगंधा चूर्ण को मिलकर नियमित रूप से 15 से 20 दिनों तक लगातार सेवन करते हो तो आपको जल्द ही रिजल्ट देखने को मिलेका

अश्वगंधा खाने के नुकसान | Ashwagandha Side Effects

  • दोस्तों अगर आप अश्वगंधा के चूर्ण को मात्रा से ज्यादा इसका सेवन करते हो तो आपको पेट दर्द या फिर दस्त लगने की प्रोबलम हो सकती है
  • अश्वगंधा गर्म प्रकृति का होता है इसके सेवन करने से आपके शरीर पर फुन्सिया भी हो सकती है लेकिन धीरे धीरे वफिस ठीक हो जाएगी
  • आपको स्किन प्रोबलम भी हो सकती है अगर आप बिना doctor की सलाह लिए आप इसका सेवन करते हो तो
  • अश्वगंधा चूर्ण का इस्तेमाल गर्भवती महिलाए doctor की सलाह के बिना ना करे क्योकि उनको किसी भी प्रकार का साइड effect हो सकता है

इलायची खाने के फायदे और नुकसान

अश्वगंधा के फायदे महिलाओं के लिए

आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर यह जड़ी बूटी महिलाओं के लिय काफी फायदेमंद है इसमें एंटी ओक्सिडेंट तथा एंटी बेक्टिरियल के गुण महिलाओं को योनी से समन्धित जैसे वेजाइना में खुजली , दाद या अन्य किसी प्रकार की इन्फेक्शन की समस्या से छुटकारा दिलाने में अश्वगंधा पाउडर बहुत ही लाभदायक है साथ में अगर महिलाओं के प्राइवेट पार्ट्स से गन्दी बदबू आती है तो उससे छुटकारा दिलाने में बहुत ही असरदार है आप नियमित रूप से सर्दियों के मौसम में रात को सोने से पहले दूध के साथ एक चमच अश्वगंधा पाउडर को मिलाकर पिने से इन समस्याओं से बिकुल आजादी मिलेगी |

हल्दी और अश्वगंधा के फायदे

आप जब सर्दियों के मौसम में सर्दी-जुकाम और सिर दर्द जैसी समस्या से परेशान होते है तो उस समय अगर आप हल्दी और अश्वगंधा पाउडर को मिक्स करके इसकी चाय या तासीर का इस्तेमाल करेंगे तो यह आपकी सर्दी-जुकाम की समस्या को जड़ से ख़त्म कर देता है क्योकि यह दोनों मिश्रण हमारे शरीर में एंटी ओक्सिडेंट तथा एंटी बेक्टिरियल की तरह कार्य करते है जिससे त्वचा की सुन्दरता को बढाने में भी बहुत ही सहायक है |

अश्वगंधा से समन्धित जो भी प्रश्न और उतर

अश्वगंधा और दूध पिने से क्या होता है

आयुर्वेद कहता है की आप नियमित रूप से दूध और अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करते हो तो आपका दुबला पतला शरीर वजन दार हो जाएगा आपकी बोडी को मजबूत बनता है

अश्वगंधा के परहेज क्या है

इस चूर्ण को गर्ब्वती महिलाए तथा उच्च रक्त चाप वाले व्यक्ति न प्रयोग में ले क्योकि अश्वगंधा गर्म प्रकृति की एक विशेष जड़ी बूटी है जिससे आपको साइड इफ़ेक्ट हो सकता है

अश्वगंधा पावडर के फायदे इन हिंदी | How Much to Consume Ashwagandha

इस चूर्ण से हमारी बोडी के अंदर तमाम बीमारिया बनती है उन सभी को दूर करने में काफी सहायक है और साथ ही पेट के जितने भी कीड़े है उनको मरने में सहायता करता है

अश्वगंधा और मिश्री के फायदे

इन दोनों को आप दूध के साथ रोजाना पिने से आपको ल्यूकोरिया की समस्या है तो आपको जल्द ही आराम मिलेगा और साथ में आपको पेट की गैस या कब्ज की समस्या है उनसे भी छुटकारा मिलेगा

लायची खाने के फायदे और नुकसान

करेला के फायदे और नुकसान | karela ke fayde or nuksan

पीले दांतों को सफेद करने का घरेलू उपचार 

4 thoughts on “अश्वगंधा खाने के फायदे और नुकसान | Advantages and Disadvantages of Eating Ashwagandha | Ashwagandha Ke Fayde or Nuksan”

Leave a Comment