सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय | Biography of Subhadra Kumari Chauhan in Hindi

Subhadra Kumari Chauhan ka Jivan Parichay -सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय सुभद्रा कुमारी चौहान एक महान प्रसिद्ध कविता लेखिका थी इनकी कविताए काफी रोचक है आज भी इनकी कविताओ को सुनते है तो शरीर के रोगंटे खड़े हो जाते है इनका जन्म उत्तरप्रदेश के इलाहबाद शहर के निकट निहालपुर ग्राम में नागपंचमी के दिन रामनाथ सिंह के घर में हुआ था रामनाथ सिंह पेशेवर जमीदार थे वे अपने परिवार का लालन पालन खेती में कार्य करके ही परिवार का पालन पोषण करते थे |

सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय

सुभद्रा की छोटी उम्र की शिक्षा अपने ग्राम निहालपुर में ही हुई थी सुभद्रा कुमारी को जन्म से ही कविताओ का बड़ा शोक था वे अपनी रूचि कविताओ को पढने में ही निकालती थी सुभद्रा कुमारी चौहान के पिता शिक्षा से बहुत प्रेम करते थे और सुभद्रा की पढाई करवाने में उनके पिता रामनाथ सिंह का ही महत्वपूर्ण योगदान है उनकी शिक्षा करते समय ही उन्होंने बहुत सी कविताओ की रचने की है इनकी कविताओ में हास्य रस तथा वीर रस की उपमा की गई है

सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय | subhdra kumari chauhan ka janm kab hua tha

सुभद्रा कुमारी चौहान का जन्म कब हुआ था |

महान कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान का जन्म उत्तरप्रदेश के इलाहबाद शहर के निकट निहालपुर गावं में नागपंचमी के दिन सन 16 अगस्त 1904 को हुआ था उसके पिता का नाम रामनाथसिंह है और वे जमीदार थे सुभद्रा कुमारी चौहान के दो भाई और चार बहिन थी ठाकुर रामनाथ सिंह इतने पुराने ज़माने के होने के बावजूद भी उस टाइम भी शिक्षा के प्रति काफी रूचि रखते थे वे अपने बच्चो की शिक्षा को पूर्ण करवाने के लिय जमीदार का कार्य करके बच्चो की शिक्षा के जो भी सामान होते थे उनकी पूर्ति करवाते थे |

सुभद्रा कुमारी चौहान की शिक्षा पूर्ण रूप से उनके पिता रामनाथ सिंह की देख रेख में ही हुई थी सुभद्रा की रूचि शुरुआत से ही कविताओ को लिखने और पढने में थी और वे बचपन से ही कविताओ को लिखती रहती थी अभी सुभद्रा कुमारी चौहान की शिक्षा पूर्ण हो चुकी थी और वे इतनी बड़ी हो गई की उनकी आयु शादी विवाह के योग्य थी |

सुभद्रा कुमारी चौहान का विवाह कब हुआ , किसके साथ हुआ था | subhdra ka jivan parichay

Biography of Subhadra Kumari Chauhan in Hindi सुभद्रा कुमारी चौहान का विवाह इलाहबाद के निकट खंडवा के ठाकुर लक्षमण सिंह के साथ सन 1919 में हुआ था उसके बाद वे जबलपुर चली गई और 1921 में Subhadra Kumari Chauhan गांधीजी के साथ असहयोग आन्दोलन में गांधीजी के साथ मिलकर इस आन्दोलन को संभाला था असहयोग आन्दोलन में भाग लेने वाली प्रथम महिला Subhadra Kumari Chauhan थी |

रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है | Raksha Bandhan

जन्म16 अगस्त 1904
इलाहाबाद, निहालपुर गावं में
मृत्यु15 फ़रवरी 1948 (उम्र 43)
सिवनी, भारत
व्यवसायकवयित्री
भाषाहिन्दी
राष्ट्रीयताभारतीय
अवधि/काल1904–1948
विधाकविता
विषयहिन्दी
जीवनसाथीठाकुर लक्ष्मण सिंह चौहान
सन्तान5

नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय | Niraj Chopda Biography in Hindi

सुभद्रा कुमारी चौहान की जीवनी किस पुस्तक में लिखी गई है

Biography of Subhadra Kumari Chauhan in Hindi Subhadra Kumari Chauhan की जीवनी को उनकी पुत्री सुधा चौहान ने ‘ मिला तेज से तेज ‘ नामक पुस्तक में किया गया है इस पुस्तक का प्रकाशन हंस में किया गया है

सुभद्रा कुमारी चौहान का जीवन परिचय

सुभद्रा कुमारी चौहान कौनसा जन्म दिवस है

Subhadra Kumari Chauhan का 117 वा जन्म दिवस आज के दिन 16 अगस्त 2021 को गूगल नए महत्त्व प्रदान किया है

History of Subhdra kumari Chauhan

Subhadra Kumari Chauhan का जन्म 16 अगस्त 1904 को इलाहबाद के छोटे से गावं निहालपुर में हुआ था उसके पिता का नाम रामनाथ सिंह था और Subhadra Kumari Chauhan की शादी या विवाह बंधन ठाकुर लक्षमण सिंह के साथ 1919 में हुई थी Subhadra Kumari Chauhan की जीवनी सुबह चौहान की पुस्तक मिला तेज से तेज में किया गया है आज 16 अगस्त 2021 को Subhadra Kumari Chauhan का 117 वा जन्म दिवस मनाया गया है आज इसकी चर्चा गूगल के dudal में भी इसकी तस्वीर अंकित है

सुभद्रा कुमारी चौहान की पहली कविता कब लिखी गई थी

जब सुभद्रा कुमारी बाल्यकाल में 9 वर्ष की उम्र थी सन 1913 में पहली कविता झाँसी की रानी की कविता की रचना की थी और यह कविता hindi भाषा की कविता भी थी Subhadra Kumari Chauhan नए 1921 के असहयोग आन्दोलन में गांधीजी के साथ आन्दोलन में प्रथम महिला नए भाग लिया था और वे इस देश की स्वाधीनता के लिय 2 बार जेल भी गई थी वे एक सची देश भगत थी उन्होंने अपने जीवन को इस देश के लिय समर्पित कर दिया था

Subhadra Kumari Chauhan का देहांत कब हुआ था

Subhadra Kumari Chauhan का देहांत 15 फरवरी 1948 में हुआ था वे केवल 44 वर्ष की आयु में इस देश के लिय अपने प्राण न्योछावर कर दिए थे बहुत ही महान लेखिका के नाम से पूरा देश आज भी इस महिला पर गर्व करता है

Subhadra Kumari Chauhan का जीवन परिचय , Biography of Subhadra Kumari Chauhan in Hindi , Subhadra Kumari Chauhan ka Jivan Parichay ,

Leave a Comment