गले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा | Gale me kharash ke top 10 gharelu upchar

गले में खराश का घरेलू उपाय , Home Remedies for Sore Throat Problems in Hindi , Gale me kharash ke gharelu upchar , Gale me kharash ka ghrelu upay , gle ka infection kaise thik kare , What is Throat Infection in Hindi , गले में इन्फेक्शन के कारण , Home Remedies for cough , गले में खराश के 5 घरेलू टिप्स ,

गले में खराश का घरेलू उपाय

Table of Contents

वजन बढ़ाने के 10 आसान घरेलू टिप्स 

Sorगले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा ( Gale me kharash ke top 10 gharelu upchar ) – गले की खराश सर्दी और गर्मी दोनों मौसमो में होने वाला इन्फेक्शन है अक्सर गले का इन्फेशन या खराश कठिन परिश्रम करने के बाद ठंडा पानी पिने से या फिर स्नान करने से भी आपको गल्ले में खराश होना शुर हो जाता है जिससे आपको बोलने एवं खाने में बड़ी तकलीफ होती है और गल्ले में सुजन भी हो जाता है और इससे गले में ज्यादा खांसी लेने से छाले पड़ जाते है जिसकी वजह से आपको बहुत कष्ट होता है |

लेकिन गले की खराश वैसे तो साधारण समस्या है परन्तु यही खराश जब घाव में तबदील हो जाती है तब आपको बहुत सी दिकतो का सामना करना पड़ सकता है लेकिन हम आपके लिय 10 ऐसे घरेलू उपाय लेकर आए है जिनका इस्तेमाल करके आप गले की खराश को दूर कर सकते है तो फ्रेंड्स आर्टिकल को बड़े ध्यान से एक एक टिप्स को read करना उसके बाद आप इन घरेलू उपचारों को अपनाना है |

गले का संक्रमण क्या है | What is Throat Infection in Hindi

Sore Throat Problems – हमारी गल्ले की आहार नाल में इन्फेक्शन होने के वैसे तो कई कारण है जिनके कारण गले में खराश होता है जैसे ज्यादा ठंडा व् चिकना खाने से या फिर दूषित बासी भोजन करने से गले में इन्फेक्शन हो सकता है या फिर सर्दी के मौसम में झुकाम व् सर्दी होने पर गल्ला भरी हो जाता है , पेट की कब्ज या गैस की वजह से भी गल्ले का इन्फेशन होने का खतरा होता है गले में इन पदार्थो के सेवन करने से बेक्टीरिया उत्पन्न हो जाते है|

Gale me kharash ke gharelu upchar

गले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा ( Gale me kharash ke top 10 gharelu upchar ) जिससे आपको गले में खराश होती है लेकिन आयुर्वेद कहता है की हमारी बोडी का निर्माण वात , पित और कफ इन तिन तत्वों से मिलाकर बोडी को बनाने में सहायता होती है और जब पेट से समन्धित रोग उत्पन्न होते है जैसे गले की खराश या झुकाम की स्थति में बोडी में कफ और पित में दोष उत्पन्न हो जाता है जिससे इस पारकर की सामान्य बीमारिया जन्म लेती है लेकिन फ्रेंड्स इन बीमारियों को आप घर में उपलब्ध सामग्रियों के माध्यम से बड़ी आसानी से ठीक किया जा सकता है

वजन बढ़ाने के 10 आसान घरेलू टिप्स 

गले में इन्फेक्शन के कारण | gle ka infection kaise thik kare

Sore Throat Problems – दूषित या बासी भोजन करने या फिर खतरनाक धुप में कठिन परिश्रम करके आप बिना समय व्यर्थ किए ठंडा पानी या स्नान करने या फिर कूलर या एयर कंडिशनर के निचे बेठने से शरीर में झुकाम हो सकता है गले में खरस भी हो सकती है जिससे गले में इन्फेक्शन या बेक्टीरिया पैदा हो जाते है जो आपकी आहार नाल या श्वास नलिका को रोकने में बाधा उत्पन्न करते है इससे होता क्या है की आपकी बोडी का तापमान बाहर काम करते वक्त ज्यादा होता है और जैसे ही आप ठंडे पानी से या फिर ac या कूलर के आगे बेठने से आपका तापमान अचानक निचे गिरता है |

जिससे आपको इस प्रकार की परेशानी हो सकती है इसलिय फ्रेंड्स आप ध्यान रखे की ज्यादा हार्ड work करने के बाद बाहर के तापमान में रहे जब तक आपका पसीना अच्छी तरह से सुख न जाए उसके बाद ही पानी या कूलर के आगे बेठे जिससे आपकी बोडी हेल्दी बनी रहेगी |

  • खतरनाक वायरस वाली हवा के प्रकोप से ही गले में इन्फेक्शन हो सकता है
  • गले की खराश से आपको डिप्थीरिया नामक रोग होने का खतरा होता है
  • इसके कारण आपको खांसी आना शुरू हो जाता है
  • ज्यादा मात्रा में गुटखा , तम्बाकू , सिगरेट पिने से भी गले में खराश या फिर कैंसर होने का खतरा भी होता है जो की जानलेवा भी हो सकता है
  • फ्रिज या आइसक्रीम खाने से भी गले की खराश या इन्फेक्शन होने का डर होता है ऐसे कई कारणों से आपका गला ख़राब होने का खतरा होता है

Home Remedies for cough | खांसी के घरेलू उपचार

Sore Throat Problems – मौसम के बदलते वातावरण में दूषित गैसों का प्रभाव बढ़ जाता है जिससे आपको इन्फेक्शन होने का खतरा होता है या फिर सर्दी के मोसम में ज्यादा ठंडा या चिकना खाने के बाद बासी ठंडा पानी पिने से आपको खांसी झुकाम होने का खतरा होता है इससे आपको खांसी आणि शुरू हो जाती है और छाती में कफ या बलगम की शिकायत हो जाती है जिसके बाद आपको श्वांस लेने में दिक्कत होती है और शरीर की एनर्जी बिलकुल कमजोर हो जाती है |

इसके लिय आयुर्वेद ने कुछ घरेलू सामग्रियों के बारे में बताया है जिनका इस्तेमाल करके आप कितनी भी पुरानी खांसी या सुखी खांसी इन सबको अगले 2 दिनों के अंदर जड़ से खत्म कर सकते है तो चलिय दोस्तों हम बात करते है उन घरेलू उपचारों के बारे में |

गले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा | Gale me kharash ke top 10 gharelu upchar

1 . हल्दी और अदरख | Sore Throat Problems

हल्दी के ओषधिय गुण हमारे शरीर में बहुत ही लाभदायक है इसके एंटी बेक्टिरियल गुण बोडी के अंदर तापमान को मेंटेन करता है और बोडी के अंदर बेक्टीरिया को मारने में सहायता करता है यह हमारे शरीर में एंटी ओक्सिडेंट का कार्य करती है जब आप हल्दी और अदरख के टुकडो को एक गिलास दूध के साथ अच्छी तरह से उबलेंगे तो इसका काढ़ा तैयार हो जाएगा इसे आप रात को सोने से पहले लेना है और इसके ऊपर एक घंटे तक फ्रेंड्स पानी का इस्तेमाल बिलकुल नही करना है |

इससे क्या होगा की जो छाती में पुराना कफ या बलगम जमा है उसको फाड़ने में अदरख का रस सहायता करता है और बार बार खासने से गले में सुजन या घाव हो जाते है उनको ठीक करने में हल्दी और दूध बहुत ही फायदेमंद है

2 . दालचीनी और तुलसी के पत्ते खांसी को दूर करते है | gle ka infection kaise thik kare

गले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा :- खांसी को ठीक करने में दालचीनी की छाल और तुलसी के पत्ते बहुत ही फायदेमंद है आप एक गिलास पानी में दालचीनी की छाल व् तुलसी के पत्तो को डालकर इतना उबले की पानी एक गिलास की वजय एक कप बचे तब आप इसमें एक चमच शहद को मिलकर पिने से खांसी और कफ बिलकुल अच्छी तरह बाहर निकल जाएँगे साथ में फ्रेंड्स आप ध्यान रखे की आप ठंडे चिकने पदार्थो का सेवन बिलकुल नही करना है आप ज्यादा फाइबर युक्त व् कार्बोहायड्रेट वाले पदार्थो का सेवन करे जिससे आपकी रोग प्रति रोधक क्षमता बढ़ाने में मदद मिलती है

3 . कालीमिर्च ,लौंग , और मिश्री गले की खराश और खांसी को दूर करने में सहायक है

आपको 3 से 4 लौंग और 8 से 10 कालीमिर्च के दाने लेना है उनको बारीक़ ग्राइंडर से पिस लेना है उनको पिसने के बाद आधा गिलास पानी में डालकर उबलना है इसे उबलने के बाद चलनी से छानकर उसमे मिश्री को मिलकर पिने से भी पुरानी से पुरानी सुखी खांसी को ख़त्म कर देता है इसके साथ आप शहद का भी प्रयोग कर सकते है क्योकि शहद के अंदर एंटी बायोटिक एवं एंटी बेक्टिरियल के गुण होते है जो छाती में जम्मे कफ को पिघलने का काम करते है

गले में खराश के 5 घरेलू टिप्स | घरेलू उपाय

1 . गले की खराश में नमक के गरारे करे

सभी घरेलू उपचारों में से सबसे आसान उपाय है की आप नमक के पानी से गरारे करे आपको एक गिलास पानी में एक चमच नमक को डालकर उसे उबलना है उबले हुए पानी को थोडा ठंडा करके इससे आप हर घंटे गरारे करे इससे आपके श्वास नली में जो बेक्टीरिया जमे हुए है उनके मारने में नमक बहुत ही सहायक है और गले में जो घाव है उन पर जो जीवाणु है उनको हटाने में नमक सहायता करता है इस विधि को आप दो दिनों तक करे गले की खराश या हिचकिच बिलकुल दूर हो जाएगी

2 . हल्दी का दूध भी गले की खराश को ठीक करता है

गले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा ( Gale me kharash ke top 10 gharelu upchar ) हल्दी में पाए जाने वाले एंटी ओक्सिडेंट के गुण जो आपके गले के घावो एवं छालो को ठीक करने में बहुत ही फायदेमंद है इसमें पाया जाने वाला ओषधिय गुण आपके गले की सभी प्रकार की परेशानियों में राहत पहुँचाने में मदद करता है और आपके गले में जो दर्द होता है वो भी इस हल्दी दूध के सेवन से बिलकुल नही होगा आप अगले 2 से 3 दिनों तक इसका इस्तेमाल करेंगे तो गले की खराश एवं खांसी झुकाम बिलकुल ठीक हो जाएगी

3 . तुलसी और अदरख का काढ़ा गले की खराश और खांसी को ठीक करता है

आयुर्वेद तुलसी और अदरख को प्राकृतिक जड़ी बूटियों में सबसे बेस कीमती मानता है कहते है की आपको कितनी भी पुरानी खांसी हो या फिर गले की खराश इस सबको तुलसी के एंटी ओक्सिडेंट के गुण मदद करते है और अदरख आपके गले में जो भी बेक्टीरिया या फंगल इन्फेक्शन है उनको मारने में कारगर है आप एक गिलास पानी को एक पतीले में डालकर उसे अच्छी तरह से उबालना है पानी अच्छी तरह से उबलना शुरू हो जाए |

तब आप इसमें 3 से 4 कालीमिर्च के दाने और 2 से 3 अदरख के टुकड़े और 4 से 5 तुलसी की पत्तियों को डालकर उन्हें अच्छी तरह से उबले उबालकर एक गिलास पानी केवल एक कप बचे तब आप उसे छानकर रात को खाना खाने के बाद सोते समय लेने से आपकी खांसी और गले की खराश बिलकुल जड़ से खत्म हो जाएगी ध्यान रहे फ्रेंड्स आप काढ़ा लेने के बाद 40 मिनट तक आपको पानी नही पीना पानी पिने से काढ़े की जो इम्युनिटी है वो खत्म हो जाती है

4 . मुलेठी के बिज गले की खराश को सही करता है | Gale me kharash ke gharelu upchar

गले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा :- मुलेठी के ओषधिय गुण आपके गले की खराश एवं खांसी को दूर करता है मुलेठी के बिज गर्म प्रक्रति के होते है जो गले के बेक्टीरिया एवं इन्फेक्शन को मारने में सहायता करता है आप मुलेठी के बीजो को एक गिलास पानी में गर्म करना है उसे गुनगुने पानी को चाय की तरह पिने से शरीर पर पसीना निकलेगा जिससे आपके गले की खांसी और बलगम को पिघलाने का काम करती है साथ में आप तुलसी की पत्तियों को इस्तेमाल कर सकते है खांसी और झुकाम के लिय आयुर्वेद में बहुत से जड़ी बूटिया है जो आपके इम्युनिटी सिस्टम को control करता है

5 . शहद और तुलसी से खांसी ठीक होती है

शहद के एंटी ओक्सिडेंट के गुण आपकी हेल्थ के लिय बहुत ही लाभदायक है इसमें मोजूद मिनरल्स आपके स्वास्थ्य में जिन तत्वों की कमी है उनकी पूर्ति करने में सहायता करता है शहद को आप एक गिलास पानी को उबालना है उसमे अप 5 से 6 पत्तिय तुलसी की डालनी है पानी को उबालने के बाद पानी को छानकर उसमे एक चमच शहद मिलकर उसे दिन में 3 से 4 बार पीना है इससे आपके गले की खरस और खांसी के बेक्टीरिया को जल्दी मारता है और साथ में गले में ज्यादा खासने से जो घाव पड़ जाते है उनसे राहत दिलाने में शहद बहुत ही कारगर है

6 . gale ki kharash ko dur karne me lahasun faydemand

गले में खराश होना वैसे तो नार्मल बीमारी है यह बदलते मौसम के कारण होता है लेकिन यही खराश जब लम्बे समय तक रहे तो आपका खाना पीना बंद हो जाता है जिससे बोडी एकदम कमजोर हो जाती है और शरीर की रोग प्रति रोधक क्षमता कम हो जाती है जिससे आप बिलकुल कमजोर हो जाते है लेकिन अगर आप लहसुन की कलियों को खाने में उपयोग लेते हो तो आपके गले की खराश को काफी जल्दी ठीक करता है |

क्या कारण है की लहसुन आपके गले की खराश को ठीक करता है क्या है की लहसुन के अंदर एंटी बेक्टिरियल के गुण होते है और साथ में इम्फ्लेमेट्री के गुण होते है जो आपके गले की खराश दूर करता है लहसुन में प्रचुर मात्रा में सल्फर भी होता है जो घावो के जीवाणु एवं बेक्टीरिया को मारने में सहायता करता है |

गले में इन्फेक्शन की आयुर्वेदिक दवा | Gale me kharash ke top 10 gharelu upchar

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न और उतर

FAQ

प्रश्न 1 . गले में खरस क्यों होती है ?

उतर – गले में इन्फेक्शन ज्यादा ठंडा चिकना खाने से या फिर कड़ी धुप में कठिन परिश्रम करने के बाद ठंडा पानी पिने से गले में खराश या इन्फेक्शन हो जाता है

प्रश्न 2 . गले में खराश कितने दिन में ठीक होता है

उतर – अगर आप घरेलू उपचारों का इस्तेमाल करते है तो आपको 2 दिनों के अंदर राहत मिल जाती है इसके लिय आप साधारण नमक को पानी के साथ मिलकर गरारे करने से घाले की खराश एकदम ठीक हो जाती है

प्रश्न 3 . गले की खराश या खांसी होने पर क्या खाना चाहिय ?

उतर – आप खाने में फाइबर युक्त और कार्बोहायड्रेट वाले पदार्थो का सेवन करे तथा साथ में मशाले दार चाय भी पीना आपके लिय फायदेमंद होगी

प्रश्न 4 . गले के संक्रमण को कैसे ठीक किया जाता है ?

उतर – गले के इन्फेक्शन को ठीक करने में आप कालीमिर्च , लौंग , तुलसी की पत्तियों के काढ़ा से बड़ी आसानी से ठीक किया जा सकता है आप इन तीनो को पानी में उबालकर रात को सोने से पहले लेना है इससे आपको दो दिनों में खासी और खराश दोनों दूर हो जाएगी

प्रश्न 5 . गले में खराश दूर करने के उपाय क्या है ?

उतर – इस खराश को दूर करने में आप हल्दी और दूध के साथ अदरख को मिलकर उबलने के बाद इसे ठंडा करके पिने से आपकी गले की खराश और इन्फेक्शन दोनों आसानी से दूर हो जाएँगे

प्रश्न 6 . गले में खराश की समस्या को दूर कैसे करे |

उतर – गले में इन्फेक्शन या खराश की स्थति होने पर आप दालचीनी के साथ तुलसी की पत्तियों को एक गिलास पानी के साथ अच्छी तरह उबालकर इसके चाय से समान पिने से गले में खराश या बेक्टीरिया को मारने में मदद मिलेगी

प्रश्न 7 . गले में खराश और बलगम का घरेलू उपचार क्या है ?

उतर – आप ठंडे चिकने पदार्थो का सेवन बिलकुल बंद करना है और फाइबर एवं कार्बोहायड्रेट वाले पदार्थो का सेवन करे और साथ में लौंग , कालीमिर्च , तुलसी , और मुलेठी को अच्छी तरह पीसकर पानी में डालकर उबालकर पिने से घले की खराश और खांसी दोनों दूर करता है यह काढ़ा आयुर्वेदिक ओषधियो से भरपूर होता है जो आपके बलगम को पतला करता है और इसे गुदा द्वरा से बाहर निकालने में मदद करता है

प्रश्न 8 . गले की एलर्जी का घरेलू उपाय ?

उतर – गले की एलर्जी को आप निम्बू और शहद टटना तुलसी की पत्तियाँ आपकी एलर्जी को जड़ से ख़त्म करने में सहायता करती है और फ्रेंड्स ऐसा लगे की आपको इन्फेक्शन हुए कुछ ज्यादा ही टाइम हो गया है तो आप नजदीकी हॉस्पिटल में जाकर doctor से इलाज करवाए इससे गले की केंसर होने का खतरा होता है

Disclaimer

इस वेबसाइट के माध्यम से हम आपको और मेडिकल व्यवसाय से जुड़े विधार्थियों को दवाइयों तथा इनसे जुडी बिमारियों बारे में बेसिक जानकारी सुसज्जित करना एवं इस व्यस्त जीवन सफ़र में लोक समन्धि कुछ अच्छे स्वास्थ्य हेतु जानकारी आप तक पहुँचाना ही हमारा उधेश्य है , अथवा वेबसाइट में बताई गई दवाइयां किताबो के आधार पर बताई गई है एवं किसी भी प्रकार की दवाई का सेवन करने की अनुमति इस वेबसाइट द्वारा नही डी जाती है आपसे अनुरोध है की किसी भी दवाई का उपयोग करने से पहले कृपया अपने doctor से परामर्श जरुर करे ताकि आपको किसी भी प्रकार की क्षति ना हो |

Leave a Comment