Advertisement

घमौरिया के 10 घरेलू इलाज क्या है , घमौरी होने के कारण | Ghamoriya ka deshi ilaj | Home remedies for prickly heat in hindi

Advertisement

घमौरिया के 10 घरेलू इलाज क्या है , घमौरी होने के कारण , Ghamoriya ka deshi ilaj , Home remedies for prickly heat in hindi, Ghamoriya ko kaise thik kiya jae , ghamori ka ilaj gharelu nuskhe , घमौरी की हौम्योपैथिक दवा , घमौरी को कैसे हटाया जाए ,

घमौरिया के 10 घरेलू इलाज क्या है

Table of Contents

चेहरे के पिम्पल्स हटाने का घरेलू उपाय

Home remedies for prickly heat in hindi – जैसे ही गर्मी एवं बरसात का मौसम स्टार्ट होता है तब घमोरिया खुजली , दाद जैसे फंगल इन्फेक्शन शुरू हो जाते है और घमोरी से सबसे ज्यादा बच्चे परेशान होते है बच्चो की कोमल त्वचा पर लाल फुन्सिया एवं चखते हो जाते है जिस पर अत्यधिक खुजली होती है और स्किन का इन्फेक्शन बढ़ना शुरू हो जाता है अक्सर ghamoriya आपके उन अंगो पर ज्यादा होते है जो कपड़ो से अच्छी तरह से ढके हुए रहते है जैसे गर्दन के पिछले हिस्से में , पीठ पर , गले के निचे , दोनों जांघो के बिच वाले स्थान पर लाल दाने जैसी फुन्सिया होती है जो आपको बहुत परेशान करती है |

Ghamoriya ka deshi ilaj

यह घमौरी की समस्या तब तक रहती है जब तक मौसम का तापमान ठंडक ना हो जैसे ही सर्दियों का मौसम आना शुरू होता है तब धीरे धीरे घमौरी मिटना शुरू हो जाता है लेकिन फ्रेंड्स आप इन घमौरी को तुरंत भी आसानी से ठीक कर सकते है आपको ghamoriya से बिलकुल आराम पहुँचाएँगे यह 10 घरेलू इलाज जो आगे आपको इस आर्टिकल में देखने को मिलेंगे |

Advertisement

घमौरिया (घमौरी ) क्या होता है

बसंत ऋतू की शुरुआत होने पर वातावरण में नमी बढ़ जाती है जिससे शरीर पर पसीना ज्यादा आता है जिससे एक जगह बार बार पसीना आने से वहां पर घमौरी हो जाती है घमोरी खासकर गर्मियों के मोसम में होती है इससे शरीर पर लाल दाने से हो जाते है जो आपको काँटों के समान चुबन होती है और जलन भी होती है धीरे धीरे आप जैसे जैसे खुजली करेंगे तो ghamoriya आपके शरीर पर ज्यादा फ़ैल जाता है जिससे स्किन में फंगल इन्फेक्शन बढ़ जाता है और त्वचा ख़राब रुखी बेजान सी हो जाती है साथ में घमोरिया आपके गलत खान पान की वजह से भी हो सकते है जैसे आप गर्मियों के मौसम में ज्यादा तेल से बनी सब्जियां एवं चाट पकोड़े या मसालेदार भोज्य पदार्थो के सेवन करने से भी शरीर पर लाल चखते बन जाते है जिसके कारण घमोरी होने के चान्स होते है |

घमोरियां in english

Prickly heat is a type of infection that tastes like a red rash on your skin, which is protruding on the skin, there is a prick like a thorn and there is a burning sensation along with it, it gradually reaches all the parts of the body. Which gives rise to many diseases in your skin, but in time, you can also cure it through household ingredients, for this you have to take a soft cotton or cotton cloth and put 3 pieces of dry ice in it. You have to take 4 pieces from it and massage it gently with your light hands for 20 to 25 minutes on the place of prickly heat.

वजन बढ़ाने के 10 आसान घरेलू टिप्स |

ghamori meaning in english

इंग्लिश भाषा में घमौरी को prickly heat कहा जाता है |

Advertisement

ghamori ka ilaj gharelu nuskhe

1 . मुल्तानी मिटटी घमौरी में राहत पहुंचाती है

मुल्तानी मिटटी में ठंडक होती है जो आपके स्किन इन्फेक्शन जैसे त्वचा पर लाल दाने होना या फिर गर्मी के मौसम में चेहरे पर या फिर के अन्य भागो पर फुन्सिया किल मुंहासे सभी को दूर करने में सहायता करती है इसके एंटी ओक्सिडेंट तथा एंटी बेक्टिरियल के गुण आपकी त्वचा के सभी बेक्टीरिया या जुवानुओ को मारने में सहायता करती है आप मुल्तानी मिटटी को ठंडे पानी में भिगो देना है और मिटटी अच्छी तरह से भीगने के बाद जहाँ पर घमौरी है उस स्थान पर अच्छी तरह से लेपन करे इसे आप रात को सोते समय करे और सुबह उसे ठंडे पानी से साफ कर कर लेना है यह प्रक्रिया आप अगले 3 से 4 दिन करेंगे तो आपको ठंडक मिलेगी |

2 . निम् की पत्तियां घमोरिया को दूर करने में सहायक है

निम् की पत्तियों में एंटी ओक्सिडेंट के गुण होते है तथा साथ में स्किन के फंगल इन्फेक्शन के बेक्टीरिया को मारने में भी बहुत सहायक है आप निम् की पत्तियों को पानी में डालकर अच्छी तरह से उबले उबले हुए पानी को ठंडा करके इससे नहाने से भी घमौरी से छुटकारा मिलता है और आपकी स्किन में जो रोम छिद्र होते है उनको खोलने में भी मददगार है |

3 . ठंडे दही के लेपन से ghamoriya दूर होता है

फ्रेंड्स ठंडे दही से अगर आप घमौरी के स्थान पर हल्के हाथो में मसाज करते है तो आपकी स्किन पर जो लाल दाने या चखते है वो धिरे धिरे कम हो जाएँगे और साथ में रुखी बेजान त्वचा पर उनसे भी छुटकारा मिलेगा क्या है की दही में मोजूद केल्शियम व् फास्फोरस आपकी त्वचा के घावो को जल्दी भरने में मदद करता है |

4 . बैकिंग सोडे के इस्तेमाल से घमौरिया ठीक होता है

बैकिंग सोडा जो आपके किचन में बड़ी आसानी से उपलब्ध होता है इसमें एंटी बेक्टिरियल तथा एंटी ओक्सिडेंट के गुण आपकी त्वचा को संक्रमण या जीवाणु से रक्षा करता है और आपकी त्वचा पर जो पसीना बहर निकलने के रोमछिद्र होते है उनको साफ करके खोलने में मदद करता है आप दो चमच बैकिंग सोडे को एक कटोरी पानी के अंदर अच्छी तरह से मिलकर आपके शरीर पर जो घमोरिया से प्रभावित अंग या भाग है उस स्थान को सूती या कोटन के कपडे से अच्छी तरह से साफ करे और बादमे ठंडे पानी से स्नान करे इससे घमोरिया काफी जल्दी ठीक होंगे |

ghamoriya (घमौरी ) होने के मुख्य कारण क्या है ?

  • घमोरी होने की वजह है की आप जैसे ही गर्मी के मौसम में ज्यादा कठिन परिश्रम वाला कार्य करते है जिससे स्किन पर ज्यादा पसीना निकलता है और यही पसीना जब बार बार एक ही स्थान पर आता है उस समय अगर आप अपने नाखुनो से खुजली कर लेते है तब वहां पर लाल चखते बन जाते है जिससे भी ghamoriya होने का खतरा होता है |
  • हमारी स्किन पर जितने भी रोम छिद्र होते है वे अवरुद्ध होने की वजह से पसीना बाहर नही निकल पता है जिससे अंदर ही अंदर ज्यादा गर्मी होने के कारण भी घमौरी होने के चान्स होते है |
  • गर्मियों के मोसम में ज्यादा तेल वाले पदार्थ जैसे मीट , मछली , चिकन या ज्यादा मसालेदार भोजन खाने से भी आपको शरीर पर लाल दाने के आकार की फुन्सिया हो जाती है जिसे घमोरिया बोलते है |
  • एक ही बिस्तर पर एक साथ लम्बे समय तक लेते रहने से गर्मी के मोसम में एक ही पोजीशन में सोने से उस स्थान पर जलन होना शुरू हो जाती है जो बादमे घमोरिया का रूप ले लेती है |
  • बरसात के मौसम में वातावरण में ज्यादा नमी होने पर त्वचा पर चिपचिपापन होता है जिससे आप खुजली करने से भी घमोरी होने का खतरा होता है |
  • बच्चो को घमोरी होने में उनके कपडे होते है ज्यादा मुलायम कपडे नही पहनाने की वजह से उनके शरीर पर हवा का सम्पर्क नही होने के कारण उनको अत्यधिक पसीना निकलता है और जब पसीने में बच्चे खुजली कर देते है तब घमोरिया होने का डर होता है |

घमोरी (ghamoriya ) के लक्षण क्या है

  • हमारे शरीर पर लाल दाने के समान एक साथ दाद के समान कई दाने या फुन्सिया एक साथ निकलती है |
  • गर्मी के मोसम में एक जगह पर बार बार खुजली होना भी घमोरी के लक्षण होते है |
  • स्किन पर गला , पीठ , गर्दन , या पेट पर एक साथ लाल चखते हो जाने पर ghamoriya होने के लक्षण मिलते है |
  • त्वचा उभरी हुई नजर आए तो भी घमोरी के कारण ऐसा होता है |
  • ज्यादा टाईट कपडे पहनने से शरीर के उस भाग पर हवा बिलकुल नही जाती है जिसके कारण शरीर पर दाद फंगल जैसे लाल दाने जैसे दिखाई पड़ते है जो आपके घमोरिया के लक्षण होते है |
  • ज्यादा तेलिय पदार्थो के लगातार अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से आपके शरीर पर पहले खुजली कम होती है और बादमे धीरे धिरे शरीर के सभी अंगो पर खुजली होना शुरू हो जाती है जिससे ghamoriya के लक्षण होते है |

घमौरी कितने प्रकार की होती है

सामान्यत: घमौरी को तिन भागो में विभाजित किया गया है

(1) सामान्य घमौरी

(2) रूब्रा घमौरी

(3) खतरनाक घमौरी

सामान्य घमौरी – इस घमौरी में एक सामान्य व्यस्क व्यक्ति के शरीर पर ज्यदा कठिन परिश्रम करने से शरीर पर ज्यदा मात्रा में पसीना निकलता है जब पसीना बार बार निकलने से उस स्थान पर थोड़ी खुजली नाखुनो के जरीय कर दे तब उस स्थान पर हल्की महीन फुन्सिया हो जाती है उन्हें सामान्य घमौरी या ghamoriya कहते है |

रूब्रा घमौरी – यह घमौरी ज्यादा टार छोटे बच्चो में ज्यादा देखने को मिलती है क्योकि गर्मी या बरसात के मौसम में वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ जाती है और साथ में हवा में पोल्यूशन भी होता है और साथ में बच्चो के टाईट कपडे पहनाने की वजह से उन बच्चो की पसीना ज्यादा बाहर नही निकलता है तब पीठ य पेट पर लाल दाने के समान उभरी हुई त्वचा नजर आती है जो घमौरी के कारण हो ऐसा होता है |

गहर घमौरी – इस घमौरी में ज्यादातर वे लोग परेशान होते है जो कड़ी धुप में कठिन परिश्रम करके पाने परिवार का जीवन यापन करते है उनके शरीर पर इतनी धुल मिटटी जैम जाती है की उनकी त्वचा (scin ) पर जो बालो के रोमछिद्र होते है वे रुक जाते है जिससे शरीर के न्द्र गर्मी बढ़ जाती है और फिर त्वचा के अंदर जलन होती है और कुछ दिनों के बाद यह गर्मी जब बाहर निकलती है तब घमौरी के लाल फुन्सिया चखते बन जाते है |

घमौरिया से बचने के उपाय क्या है

  • घमौरिया से बचने के लिय आप सूती कोटन वाले कपडे पहने ताकि आपकी त्वचा पर बाहरी हवा शरीर के सभी भागो तक अच्छी तरह से पहुंचे |
  • आप दिन में ज्यादा विटामिन c तथा फाइबर युक्त पदार्थो का सेवन करे |
  • कड़ी धुप में किसी भी प्रकार का कार्य ना करे |
  • घर के अंदर ठंडे वातावरण वाले स्थान पर रहे |
  • बच्चो को ज्यादा लेमन जूस तथा ओरेंज जूस का सेवन दिन में 3 से 4 बार करवाए |
  • जिस कार्य के करने से ज्यादा पसीना निकलता है उस कार्य को बिलकुल ना करे |
  • दिन में दो बार अच्छी साबुन से शरीर को अच्छी तरह से सैप करे ताकि आपकी स्किन के जितने भी रोमछिद्र होते है उनमे से पसीना आसानी से बाहर निकल सके |
  • जिस व्यक्ति को घमौरिया है उसके कपडे तथा बिस्तर से बचे |
  • खाने में तेल से बनी वस्तुओ का सेवन कम करे |
  • दिन में बार बार ठंडा पानी पिए जिससे आपके शरीर की गर्मी आसानी से बाहर निकल सके |

ghamouri ka ilaj kya hai | घमौरी का इलाज

इसका इलाज है की आप गर्मी या बरसात के मौसम में बाहर नही निकले और अगर आप बाहर जाना चाहते है तो फिर आप चेहरे को और शरीर को अच्छी तरह से सूती कपड़ो से ढककर ही बाहर निकले तथा ज्यादा कठिन परिश्रम वाला कार्य ना करे जिससे आपको अत्यधिक पसीना आता है आप नमी से बचने के लिय ठंडे वातावरण में एयर कंडिशनर वाले स्थान पर रहे बच्चो को दिन में 2 बार स्नान करवाए तथा जो darmi cool का जो पावडर आता है उससे शरीर पर लगाए ताकि बच्चो को पसीने से बचाया जा सके और साथ में विटामिन c तथा फाइबर युक्त पदार्थो का सेवन ज्यादा मात्रा में करवाए जिससे बच्चो का पाचन तन्त्र भी अच्छी तरह से कार्य कर सके |

घमौरी के लिय पावडर कौनसा है

अगर बच्चो को घमौरी हो जाती है तो आप बच्चो को ठंडे पानी से सुबह श्याम दोनों टाइम नहाना है और नहाने के बाद उनके शरीर पर जोहन्सन बेबी का पावडर तथा नवरत्न ठंडा ठंडा कूल कूल का पावडर बाजार से लाए उसका इस्तेमाल करे उससे बच्चो के शरीर पर जो घमौरी के लाल दाने से होते है उनसे आराम पहुँचाने में बहुत ही कारगर है |

गर्मी के दाने कैसे हटाए

जैसे ही गर्मी तथा बरसात का मौसम शुरू हो जाता है तब वातावरण में नमी को मात्रा काफी बढ़ जाती है जिससे शरीर चिपचिपा सा हो जाता है जिसके कारण शरीर पर अत्यधिक पसीना आता है जिसके कारण ही शरीर पर लाल दाने से हो जाते है जिसके कारण शरीर पर काँटों जैसी चुभन होती है उनसे बचने के लिय आप ज्यादा ठंडे पदार्थो का सेवन करे जैसे आप निम्बू पानी या लेमन एवं ओरेंज जूस का इस्तेमाल दिन में बार बार करे तथा आप ठंडे स्थान पर रहे जिससे आपकी स्किन के अंदर जो बेक्टीरिया या फंगल इन्फेक्शन है उनको मारने में सहायता मिलती है जिससे आपके शरीर पर दाने बिलकुल नही होंगे |

घमौरी के उपचार क्या है

घमौरिया से बचने का उपाय है की आप कड़ी धुप में बाहर नही निकले तथा अगर आपको घमौरिया हो गया है तो आप दिन में सबह और श्याम दोनों टाइम नहाना है और साथ में जहाँ घमौरिया है उस स्थान पर आप शुष्क आईस को सूती कपडे में डालकर घमौरी के स्थान पर मसाज करे इससे आपके स्किन के अंदर बेक्टीरिया या फंगल इन्फेक्शन है उनको हटाने में सहायता मिलती है और खास कुछ जरुरी है की आप तेल से बनी खाद्य पदार्थो का सेवन कुछ टाइम के लिय बिलकुल कम कर दे ताकि आपकी स्किन पर ऑयली control हो सके |

घमोरिया मिटाने की दवा

वैसे तो बाजार में बहुत सी मेडिसन है लेकिन इन दवाइयों से आपको स्किन इन्फेक्शन होने का खतरा ज्यादा होता है लेकिन फ्रेंड्स घमौरिया से बचने के लिय आप घरेलु उपायों के जरीय भी ठीक बड़ी आसानी से कर सकते है इसके लिय आप एक सूती या कोटन के मुलायम कपडे में 3 से 4 शुष्क आईस क्यूबेक ले और अपने घमौरिया वाले स्थान पर हल्के हाथो से उन पर 20 से 25 मिनट तक मालिश करने से आपको 2 से 3 दिनों में काफी राहत मिलेगी |

और दूसरा उपाय है की आप ठंडा दही का इस्तेमाल भी कर सकते है आप दही की मसाज भी घमौरिया वाले स्थान पर 7 से 8 मिनट तक करने से भी घमौरी से राहत मिलती है दही की मसाज करने के बाद आप ठंडे पानी से अच्छी तरह से स्नान करने से भी आपको घमौरिया से छुटकारा मिल सकता है |

घमौरी की होम्योपैथिक दवा

शरीर पर अत्यधिक संख्या में गहरे लाल रंग के दाने के समान फुन्सिया होना घमोरिया कहलाती है घमौरी से आपके शरीर पर मधुमाखी के डंक के समान चुभन होती है और जैसे ही शरीर से कपडे हो हटाते है तो जलन होती है इससे राहत पाने के लिय हौम्योपैथिक दवा के रूप में – रूमेक्स 3 , 6 , एपीस 30 , सल्फर 30 मैडिसन का इस्तेमाल करने से आपको तुरंत राहत मिलती है |

घमौरिया से बचने के देशी घरेलू उपाय | ghamori ka deshi ilaj

एलोवेरा जेल घमोरिया मिटाने में सहायक है

हमारी स्किन पर जब गर्मी या बरसात के दिन जैसे ही शुरू हो जाते है तब प्रथ्वी के वातावरण में नमी काफी बढ़ जाती है जिससे शरीर की त्वचा चिपचिपी हो जाती है जिससे शरीर पुरे दिन गिला रहता है और त्वचा ड्राई बिलकुल नही होती है उस समय त्वचा पर बेक्टीरिया या संक्रमण जीवाणु स्किन के अंदर घुस जाते है इससे त्वचा के रोमछिद्र भी बंद हो जाते है जिसके कारण पसीना बाहर नही निकलता है और स्किन पर लाल दाने के समान फुन्सिया हो जाती है उन पर ज्यादा खुजली एवं जलन होती है जिससे घमोरिया होता है इस घमोरिया को मिटाने के लिय आप घमोरिया से प्रभावित स्थान पर एलोवेरा जेल की मालिस सुबह श्याम दोनों टाइम करे इससे आपकी घमोरिया की बीमारी अगले 3 से 4 दिनों के भीतर चली जाएंगी |

चन्दन का लेपन

चन्दन की मिटटी में भरपूर आयुर्वेदिक ओषधिय गुण होते है जो आपके स्किन प्रोबलम को दूर करने में बहुत ही सहायक है चदन की मिटटी वैसे ही त्वचा के सभी रोमछिद्रो को खोलने एवं त्वचा का निखार करने में मदद करती है इसमें पाए जाए वाले एंटी ओक्सिडेंट , एंटी बेक्टिरियल व् एंटी सेप्टिक गुण आपकी त्वचा में जिन तत्वों की कमी है उनकी पूर्ति करने में सहायता करती है चन्दन का लेपन आप रात को सोते समय घमोरिया से ग्रसित अंग या स्थान पर करने से ठंडक मिलती है |

अक्सर लोगो द्वारा पूछे जाने वाले सवाल

FAQ :-

प्रश्न 1 . घमोरिया किस कारण से होते है

उतर – कड़ी धुप में कठिन परिश्रम करने तथा स्किन के रोमछिद्र में रूकावट आने से घमोरिया होती है और अक्सर गर्मी या बरसात के मौसम में घमौरी की समस्या होती है |

प्रश्न 2 . घमौरी कैसे खत्म होगा ?

उतर – घमौरी को ठीक करने के लिय आप शुष्क आईस को एक सूती कोटन के मुलायम कपडे में डालकर उसकी घमौरी से प्रभावित अंग पर मसाज करने से घमौरी से राहत मिलती है |

प्रश्न 3 . घमौरी हटाने का तरीका

उतर – घमौरी को हटाने में आप निम् की पत्तियों को पानी में उबालकर उसके पानी से स्नान करने से तथा ठंडे दही से मालिस करने से ही घमौरी को मिटाया जा सकता है और ध्यान रहें की आप शुष्क ठंडे वातावरण में रहे जिससे शरीर पर ज्यादा पसीना ना आए |

प्रश्न 4 . घमौरिया क्यों होती है ?

उतर – घमौरिया अक्सर गर्मोयो एवं बरसात की सीजन जैसे ही शुरू हो जाती है तब हमारे चारो और के वातावरण में नमी बढ़ जाती है जिससे शरीर पर चिपचिपापन बढ़ जाता है शरीर पर अत्यधिक मात्रा में पसीना निकलता है दूसरा गर्मी के मौसम में कड़ी धुप में हार्ड work करने से तथा आपकी त्वचा के जितने भी रोमछिद्र होते है वे रुक जाते है जिससे शरीर का पसीना बाहर निकलने की वजय अंदर त्वचा के बेक्टीरिया बनता है जिससे घमौरिया होता है |

प्रश्न 5 . चेहरे पर घमोरिया होने पर क्या करे ?

उतर – चेहरे पर घमोरिया होने पर चेहरे को बार बार ठंडे पानी से धोएं और आप एलोवेरा जेल की मसाज करे इससे चेहरे के पिम्पल्स एवं फुन्सिया दूर हो जाएगी |

Disclaimer –

Through this website, we provide you and the students of medical profession with basic information about medicines and diseases related to them, and in this busy life journey, it is our aim to provide information to you for some good business related to people, or on the website. The prescribed medicines are told on the basis of books and social media and use of any kind of medicine or home remedies is not allowed by this website. It is requested that you before using any medicine or home remedy. Do consult a doctor, what is it that friends, the movement of the body of all people is not the same.

Advertisement

2 thoughts on “घमौरिया के 10 घरेलू इलाज क्या है , घमौरी होने के कारण | Ghamoriya ka deshi ilaj | Home remedies for prickly heat in hindi”

Leave a Comment