खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा | Ayurvedic Medicine for Blood Purification in Hindi

रुधिर साफ करने की आयुर्वेदिक दवा (Ayurvedic Medicine for Blood Purification in Hindi ) :- हमारे स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने एवं बिमारियों से बचाव करने में रुधिर का अहम् योगदान है हमारे शरीर में अंगों को जब भी ऑक्सीजन एवं जरुरी पोषक तत्वों की कमी होती है तो वहां तक पहुँचाने में खून का कार्य है एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में 5-6 लीटर रुधिर का होना बहुत ही आवश्यक है कुछ एक्सपर्ट का मानना है की हमारे शरीर का टोटल वजन होता है उसका 11 वा भाग रुधिर होता है यानि अगर किसी व्यक्ति का वजन 66 किलोग्राम है तो उस व्यक्ति के शरीर में 66/11=6 लीटर रुधिर होता है यह हमारी बोडी को बिमारियों के बचाव में बहुत जरुरी होता है |

जब हमारी बोडी में रुधिर गन्दा हो जाता है तो अक्सर चेहरे पर फुंसियाँ दाग-धब्बे , कील-मुहांसे, काले-लाल चखते,खुजली एवं किडनी डेमेज आदि की समस्या देखने को मिलती है और यह सभी लक्षण अक्सर गर्मियों के मौसम में देखने को मिलती है |

खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा
खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा

खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा

( blood )खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा Patanjali | खून साफ करने की एलोपैथिक दवा | खून साफ करने की सिरप कौन सी है | खून साफ करने के लिए क्या खाना चाहिए | खून साफ करने की होम्योपैथिक दवा | खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा | Ayurvedic Medicine for Blood Purification in Hindi | blood cleansing method , blood infection in hindi | Blood Purification |

कई बार हम जब बीमार हो जाते है तो हमारी बोडी की सभी नसों ( नब्ज ) में विषाक पदार्थों की संख्या काफी बढ़ जाती है और यह रुधिर के साथ घुलमिलकर बोडी के सभी अंगों को प्रभावित करती है जिसके कारण धीरे-धीरे काफी बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है इन बिमारियों से बचने में आपके रुधिर का साफ होना बहुत जरुरी है और रुधिर साफ करने की आयुर्वेदिक दवा भी बहुत है जिसके माध्यम से आप इन सभी बिमारियों से आसानी से बच सकते है आज आपको 5 ऐसे आयुर्वेदिक इलाज खून साफ करने के बताएँगे जिनका इस्तेमाल करने के पश्चात् आपका खून बिलकुल साफ रहेगा और आपकी बोडी को अनेक बिमारियों से बचाव करने में मदद मिलेगी |

Khun Saf Karne ki Aayurvedik Dwa

आपको बता दें की आज से 100 वर्ष पहले इन अंग्रेजी दवाइयों का प्रवेश भारत देश में नही होता था उस समय के चिकित्सक आयुर्वेदिक दवाइयों के जरीय हमारी बोडी की प्रत्येक बीमारी को ठीक करते थे और इन आयुर्वेदिक दवाइयों से ना किसी प्रकार का side effect होता है इनका असर सीधा बीमारी को ठीक करने में होता है दोस्तों आज भी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों में इतनी शक्ति मौजूद है की आपकी प्रत्येक बीमारी को जड़ से निकालने में असरदार है आज के 5 ऐसे घरेलु आयुर्वेदिक इलाज आपके खून को साफ करने में आपको काफी मदद करेंगे की आप गर्मियों सर्दियों के हर मौसम में इस्तेमाल करे |

आपको बोडी को स्वस्थ बनाने में आपकी मदद करेंगे आज के खान-पान के कारण रुधिर का संक्रमित होना स्वाभाविक है क्योकि ज्यादा तर लोग तेलिय पदार्थ ( oily food ) जंक फूड , चटपटा मसालेदार भोज्य पदार्थ को खाना ज्यादा पसंद करते है जिसके कारण खून का संक्रमित होता निश्चित है |

लेकिन फ्रेंड्स आज के 5 आयोर्वेदिक इलाज आपके रुधिर को स्वस्थ बनाने में आपको काफी ज्यादा हेल्प करेंगे और आपके स्वास्थ्य को बिमारियों से बचाव करने में रामबाण औषधि के रूप में कार्य करेंगे |

रुधिर साफ करने की आयुर्वेदिक दवा

वैसे फ्रेंड्स रुधिर को साफ करने के लिय आयुर्वेदिक इलाज बहुत है लेकिन सभी आयुवेदिक औषधि एवं जड़ी बूटियां आपको आसानी से मिल नही पाती है जिसके कारण आपको यही 5 खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा बताने जा रहें है जोकि आपको मिलने में बहुत ही आसान है चलिय जानते है इन देशी दवाइयों के बारे में और साथ में किस प्रकार इनका उपयोग करना है |

1 . तुलसी की पत्तियां :-

आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर तुलसी की पत्तियां हमारी बोडी के अन्दर खून में जितने भी विषाक पदार्थ या बेक्टीरिया मौजूद होते है उनको मारने में आपकी सहायता करते है आपको बता दें की तुलसी की पत्तियों में एन्टी सेप्टिक एवं एंटी ओक्सिडेंट के गुण पाए जाते है जोकि शरीर में उत्पन्न होने वाले जितने भी नुकसानदायक तत्व होते है उनको मारने में आपकी मदद करते है साथ में तुलसी की पत्तियों में विटामिन c पाया जाता है जिसका कार्य है रुधिर की क्षमता को बढ़ाना है और रुधिर को पतला करने में आपकी मदद करता है जिसके लगातार सेवन करने से खून की अशुद्धता बड़ी आसानी से दूर हो जाति है

खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा
खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा

उपयोग करने की विधि :- सबसे पहले आप एक गिलास पानी को गैस फ्लेम पर गर्म करें पानी गर्म होने पर उसमे आप 5-6 तुलसी की पत्तियों को डालें और साथ में 2 लोंग की कलियों को डालें उसके पश्चात् पानी को अच्छी तरह से उबालें अब आप पानी को छानकर थोडा ठंडा करें उसके पश्चात् पानी को स्वधिष्ट बनाने के लिय एक चमच शहद ( honney ) को मिलाएं और आपका तुलसी का पानी तैयार है इस लिक्विड पानी को आप रोजाना सुबह श्याम खाली पेट इस्तेमाल करें देखना दोस्तों आपके चेहरे की झुरियां , कील-मुहांसे, दाग-धब्बे एवं खुजली सभी दूर हो जाएगी और चेहरे की चमक बादाम जैसी चमकने लगेगी |

2 . निम् की कल्लियाँ :-

कहा जाता है की निम् की पतियों के पानी से नहाने से खुजली की समस्या दूर हो जाती है क्योकि नि की पत्तियों में एंटी ओक्सिडेंट एवं एंटी बेक्टिरियल के गुण पाए जाते है जोकि हमारे शरीर में विषाक पदार्थ रुधिर के साथ मिलकर पूरी बोडी के अंगों में पंहुच जाते है जिसके कारण गर्मियों में चेहरे पर कील-मुहांसे , दाग-धब्बे ,और लाल चखते हो जाते है इन सभी को मिटाने में निम् काफी कारगर साबित होता है

Khun Saf Karne ki Aayurvedik Dwa
Khun Saf Karne ki Aayurvedik Dwa

पोषक तत्व :- फोलिक एसिड , ओमेगा 5 , केल्शियम , मैग्नीशियम , विटामिन c , फास्फोरस , पोटेशियम , लवण आदि की मात्रा प्रचुर होती है |

उपयोग करने की विधि :- अगर आपको खुजली की समस्या है तो आप सुबह 5 लीटर पानी में निम् की पत्तियों को डालकर पानी को उबाले और उस गुनगुने पानी से शरीर को धोएं यह विधि आप लगातार 5-7 दिन तक इस्तेमाल करें आपकी खुजली की समस्या जड़ से खत्म हो जाएगी वही अगर आपके खून को साफ करना है तो आप सुबह खाली पेट निम् की कच्ची कलियों को खाने में इस्तेमाल करें यह विधि भी आप लगातार 15-20 दिन तक करें आपको खुद अहसास हो जाएगा और सभी बीमारियाँ दूर हो जाएगी |

3 . हल्दी वाला दूध गुणकारी :-

हल्दी एंटी ओक्सिडेंट एंटी बेक्टिरियल तथा एंटी सेप्टिक गुणों से भरपूर होती है जिसका कार्य है रुधिर की विषाक्तता को दूर करने में आपकी मदद करती है आयुर्वेद में हल्दी का उपयोग बहुत सी बिमारियों को दूर करने में किया जाता है और आप सभी जानते है की चेहरे की सुन्दरता कील-मुहांसों , दाग-धब्बों की वजह से खत्म हो जाती है और यह सब हमारे खून में विषाक पदार्थों की संख्या बढ़ जाने के कारण होती है काफी ज्यादा रुधिर बेक्टीरिया बढ़ जाते है जिसके कारण खून संक्रमित हो जाता है इसका एकमात्र इलाज आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर हल्दी वाला दूध काफी शक्तिशाली है

Khun Saf Karne ki Aayurvedik Dwa
Khun Saf Karne ki Aayurvedik Dwa

पोषक तत्व :- फाइबर, केल्शियम , पोटेशियम , मिनरल्स , जिंक , आयरन , कोपर , कार्बोहाइड्रेट , जैसे कई पोषक तत्व होते है जोकि रुधिर के शुद्धिकरण के साथ-साथ हमारी बोडी को अनेक पोषक तत्वों की पूर्ति करने में मदद करते है |

उपयोग करने की विधि :- सबसे पहले आप एक गिलास दूध को अच्छी तरह से उबालें उसमे आप एक चमच हल्दी पाउडर को मिलाएं इसको ठंडा करके रोजाना पिए यह खून साफ करने के साथ-साथ हमारी त्वचा को सुन्दर चमकदार बनाने में आपकी काफी ज्यादा हेल्प करेगा |

4 . आंवला चूर्ण :-

आवला विटामिन c का सबसे अच्चा श्रोत है जिसके लगातार सेवन करने से हमारे शरीर की रुधिर प्रक्रिया को शुद्ध करने में बहुत ही लाभदायक है इसके एंटी ओक्सिडेंट एवं एंटी बेक्टिरियल गुण हमारी खून की शुद्धिकरण की प्रक्रिया को काफी विकसित करता है आयुर्वेद में बहुत ही पेट समन्धित बीमरियों को ठीक करने में आंवले का इस्तेमाल किया जाता है इसी वजह से आवला काफी गुणकारी है |

और पढ़ें :- खाली पेट आंवला खाने के फायदे

Khun Saf Karne ki Aayurvedik Dwa
Khun Saf Karne ki Aayurvedik Dwa

उपयोग करने की विधि :- आप रोजाना एक गिलास पानी के अन्दर सुबह खाली पेट आंवले का चूर्ण मिलाकर पिए यह आपकी पेट की जितनी भी गंदगी है उसको साफ करने में मदद करता है और साथ में गैस, एसिडिटी , कब्ज आदि की समस्या को दूर करने में आपकी मदद करता है

खून साफ करने से समन्धित प्रश्न – उत्तर

प्रश्न 1 . खून साफ करने का सिरप कौन सी है?

उत्तर – बाजार के हर मेडिकल पर खून साफ करने की बहुत सी दवाइयां मौजूद है लेकिन आयुर्वेदिक गुणों से भरपूर लोकी-आंवला चूर्ण की दवाइयां काफी असरदार है और साथ में SAFI की सिरफ काफी गुणकारी है |

प्रश्न 2 . खून साफ होने के लिए क्या खाएं?

उत्तर – रुधिर को साफ करने के लिय आप ज्यादा विटामिन c युक्त खाद्य पदार्थों को खाने में इस्तेमाल करें और साथ में कच्चे सलाद एवं छाछ का सेवन करें यह सब हमारे रुधिर की शुद्धिकरण करने में काफी लाभदायक है |

प्रश्न 3 . ऐसी कौन सी सब्जी है जिसे खाने से खून साफ होता है?

उत्तर – लोकी और आंवले की सब्जी खाने से हमारे रुधिर की संक्रमित क्रिया काफी हद तक शुद्ध हो जाती है और खून में जितने भी बेक्टीरिया है उनको मारने में काफी मदद करती है |

प्रश्न 4 . चेहरे के लिए सबसे अच्छा सिरप कौन सा है?

उत्तर – हमारे चेहरे की सुन्दरता को बरकरार रखने के लिय रोज आप सुबह खाली पेट आंवले का जूस पिए यह आपके चेहरे की चमक को काफी बढाने में मदद करती है आयुर्वेदिक दवाइयां लम्बे समय तक असरदार होती है |

प्रश्न 5 . खून खराब होने से क्या होता है?

उत्तर – दूषित पानी पिने एवं बासी भोजन करने से खून ख़राब होने लगता है कई बार आप ज्यादा ऑयली फूड और जंक फूड के लगातार सेवन करने से खून संक्रमित होने लगता है इनका एक ही उपाय आप आयुर्वेदिक दवाइयों का इस्तेमाल करें |

प्रश्न 6 . ब्लड में इन्फेक्शन कब होता है?

उत्तर – शरीर में काफी ज्यादा बेक्टीरिया के बढ़ जाने से रुधिर में इन्फेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है यह सब हमारे खाने पिने की गलत आदतों की वजह से होता है |

प्रश्न 7 . खून में इन्फेक्शन होने से कौन सी बीमारी होती है?

उत्तर – जब बोडी में इन्फेक्शन बढ़ जाता है तो अक्सर किडनी , फेफड़े , और शरीर में ऑक्सीजन का स्तर काफी घट जाता है जिसके कारण हमारी बोडी में धीरे-धीरे प्लेटलेटस की संख्या कम होने का खातर होना स्वभाविक है इसलिय आप इन ख़तरनाक बिमारियों से बचें |

खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा Patanjali , खून साफ करने की एलोपैथिक दवा , खून साफ करने की सिरप कौन सी है , खून साफ करने के लिए क्या खाना चाहिए, खून साफ करने की होम्योपैथिक दवा, खून साफ करने की आयुर्वेदिक दवा , Ayurvedic Medicine for Blood Purification in Hindi , रुधिर साफ कैसे करें , खून साफ करने का देशी इलाज , blood cleansing method , blood infection in hindi , how to make up for anemia , Blood Purification,

Leave a Comment