Advertisement

वायु प्रदूषण से बचने के 10 आसान उपाय | Simple home remedies to avoid pollution in hindi | pradushan se bachne ke aasan upay

Advertisement

avoid pollution in hindi – ( प्रदूषण से बचने के 10 आसान उपाय ) आज देश के बड़े बड़े महानगरों एवं शहरों में प्रदुषण एक मुख्य समस्या बन गई है यह प्रदुषण शहरों में जो fectory , उद्योग धंधे , कारखानों में चलने वाली बड़ी बड़ी मशीनरी जो पुरे दिन कार्बन डाई ऑक्साईड जैसी जहरीली गैस निकालती है और दिल्ली जैसे बड़े बड़े महानगरों के पास तो खेतो में जो कचरा जिसे (पराली ) कहते है इसको किसान जलाकर रख करते है इनसे तो बहुत जयादा दूध होती है जिसमे बहुत सी प्रकार की गन्दी जहरीली गैस होती है |

Table of Contents

प्रदूषण से बचने के उपाय

बच्चो को प्रदूषण से बचने के 10 आसान उपाय

प्रदूषण से बचने के 10 आसान उपाय , Simple home remedies to avoid pollution in hindi , pradushan se bachne ke aasan upay , बच्चो को प्रदुषण से बचाने के उपाय , प्रदुषण से कैसे बचें , प्रदुषण से बचने के घरेलू उपाय , pollution se kaise bache , pradushan se bachav kaise kare , वायु प्रदुषण से बचने के उपाय ,

यह भी जरुर पढ़ें – बच्चों को हेल्थी बनाना है तो इस प्रकार दूध और केले का उपयोग करे

प्रदूषण से बचने के उपाय इन हिंदी

जो खासकर बच्चो के श्वसन क्रिया पर अत्यधिक प्रभाव डालते है आज के समय में इस कोरोना काल के चलते प्रदुषण सबसे ज्यादा प्रभावित करता है इन सभी प्रकार के प्रदुषण से अपने परिवार तथा बच्चो को प्रदुषण से बचाना चाहते है तो आज हम आपके लिय कुछ 8 से 10 आसान उपाय लेकर आए है जिनका इस्तेमाल करने से आपके बच्चो को इन जहरीली प्रदुषण गैसों से बचाया जा सकता है प्रदूषण से बचने के उपाय |

Advertisement

बच्चो को प्रदुषण से बचने के उपाय | pradushan se bachne ke aasan upay

दिल्ली , कोलकाता , मुंबई जैसे महानगरों में दिन प्रतिदिन प्रदुषण बढ़ता जा रहा है जिसके कारण बहुत सी बीमारिया नए नए रूपों में जन्म ले रही है आज देश का हर युवा , बच्चा , बुजुर्ग सब इस कोरोना वैश्विक महामारी से ग्रसित है यह सभी बीमारियाँ अक्सर हमारे वातावरण में गन्दी जहरीली गैसों की वजह से ही फैलती है इनसे बचने के लिय एक who की रिपोर्ट से पता चला है की किसान अगर खेतो में जो कचरा कूड़ा या पराली है उसको जलाना बंद कर दे , तथा शहरो में जो भी यातायात के संसाधन है वे सीएनजी ( CNG ) गैस से चलने शुरू हो जाए तो बच्चो तथा बुजुर्गो में प्रदुषण से होने वाली बिमारियों से बचाया जा सकता है |

जैसे ही दीपावली के दिन आते है उस समय दिल्ली में प्रदुषण की धुंध कोहरा सा छा जाता है इनसे ही खासकर छोटे बच्चों के फेफड़ो पर ज्यादा असर पड़ता है जिससे बच्चे दिन प्रतिदिन बीमार होते है |

यह भी पढ़ें – बच्चों की भूख बढ़ाने से 10 आसान तरीके

प्रदुषण के बढने के पीछे मुख्य कारण

  • हरियाणा , पंजाब और दिल्ली जैसे शहरो में जो खेतो में पराली या कूड़ा कचरा जलाया जाता है इसके कारण ही वायु में प्रदुषण बढ़ता है |
  • अपने छोटे बच्चो को ज्यादा भीडभाड वाले स्थानों से दूर रखे उनको अपने घरो पर ही रखे |
  • घरो में वेंटिलेटर लगाए जिससे प्रदुषण की गन्दी गैसों का अवशोषण हो सके |
  • बच्चो के हाथ मुंह को बार बार डिटोल या अन्य साबुन से धोते रहे हाथो तथा मुंह पर बेक्टीरिया होते है जीकी आपके बच्चो को बीमार करते है |
  • बड़े बड़े शहरो में जो fectory या कारखानों से निकलने वाली गन्दी जहरीली गैसों की वजह से ही प्रदुषण बढ़ता है |
  • पुराने इंजन की गाड़िया भी प्रदुषण को प्रभावित करते है |
  • गन्दा पानी या दूषित पानी के पिने से भी प्रदुषण की गंभीर बीमारिया उत्पन्न होती है सडको के किनारे जो ठेला लगाकर कचोरी , समोसा की दुकान वाले भी प्रदुषण को बढ़ाने के जिम्मेदार होते है |
  • गली मोहल्ले में कचरा मलबा डालने से भी पर्यावरण को बढ़ाने में जिमेदार होते है |

छोटे बच्चो को प्रदुषण से बचने की आवश्यक बातें | pradushan se bachav kaise kare

  • बच्चो के हाथ मुंह को साफ पानी या साबुन से धोना चाहिय जिससे हाथो पर जो बेक्टीरिया होते है उनसे बचा जा सके |
  • बच्चो को घर से बाहर निकलते वक्त मुंह पर मास्क पहना जरुरी है |
  • दिन में 8 से 10 गिलास शुद्ध छानकर पानी पिलाना चाहिय |
  • बच्चो के कपडे भी गंदे नही हो कपड़ो को अच्छी तरह वाशिंग करे |
  • बच्चे घर से बाहर जाने के बाद जब वापिस घर लोटे तब उनको गर्म भाप देना जरुरी है |
  • अपने बच्चो को हलके व्यायाम जैसे कपालभाती , अनुलोम विलोम जैसे व्यायाम जरुर करवाएं |
  • बच्चो का खाना ताजा फ्रेस होना बहुत आवश्यक है |
  • अपने चारो और के क्षेत्रो में अत्यधिक ऑक्सीजन वाले पेड़ – पौधे लगाए जिससे वातावरण से शुद्ध ऑक्सीजन का लेवल बढ़े |
  • घर के कमरों की खिड़कियाँ बाद रखे और कमरे में वेंटिलेटर जरुर लगाए |
  • बच्चो के कमरे में एयर फ़िल्टर भी जरुरी है |
  • छोटे बच्चो की इम्युनिटी सिस्टम को STRONG बनाने के लिय विटामिन c तथा कार्बोहायड्रेट वाले फलों एवं सब्जियों का सेवन अत्यधिक करवाए |
  • बच्चो का पाचन तन्त्र तथा पाचक रसों को बढ़ाने के लिय स्नेक्स भी प्रदान करे |
  • प्रदुषण से बचने में बच्चो की हेल्प के लिय शहद और अदरख का रस काफी फायदेमंद होता है |
  • छोटे बच्चो के फेफड़े तथा आंतो में जो बेक्टीरिया है उनको मारने में कालीमिर्च और शहद काफी सहायक है इससे बच्चो के फेफड़ो में जो बलगम या कफ है उनको बाहर निकालने में मदद करता है |
  • बच्चो को स्किन फंगल इन्फेक्शन के बचाव के लिय एलोवेरा जूस काफी लाभदायक है |

बच्चो को प्रदुषण से बचाव के लिय जीवनशैली में बदलाव

फ्रेंड्स अपने 1 से 14 साल के बच्चो को प्रदुषण की गन्दी जहरीली गैसों से बचाव के लिय उनकी तथा आपकी जीवन शैली में कुछ बदलाव करना होगा आप अपने बच्चो की रक्षा करने के लिय अपने रहन – सहन , खाना – पान को बदलना बहुत जरुरी है आज इस प्रदुषण की वजह से देश में बहुत सी बीमारिया दिन प्रतिदिन बढती जा रही है जिनका इलाज करना बड़ा मुशील हो गया है इसके लिय अपने बच्चो को ज्यादा ओइली फूड्स कम करना है , तेज मसाले जैसे कुरकुरे , भुजिया , पकोड़े , समौसा , कचोरी इन स्वादिष्ट भोजन से दूर रखना है खासकर इम्युनिटी पॉवर को बढ़ाने वाले तत्व जैसे निम्बू , संतरा , केला , सेब , अनार , आंवला आदि का जूस सुबह श्याम दोनों टाइम देना है |

Advertisement

जिससे आपके बच्चे की इम्युनिटी तथा पाचन तन्त्र दोनों ही मजबूत होंगे और साथ में बच्चे के शरीरिक विकास के लिय बच्चो को दूध , दही , और बादाम , किशमिश , अखरोट , आदि ड्राई स्नेक्स बहुत जरुरी है इन पोषक तत्वों में विटामिन , प्रोटीन और मिनरल्स के गुण मोजूद होते है जो आपके बच्चे को शक्तिशाली बनाने में मदद करते है |

प्रदुषण से कैसे बचें | Pradushan se bachne ke upay

pollution से बचने में सबसे जरुरी है मास्क है आप जब भी किसी कारण वश घर से बाहर निकले तब आप मुंह पर मास्क जरुर लगाए और खाने की बात करे तो ज्यादा विटामिन c तथा कार्बोहायड्रेट वाले फलो एवं सब्जियों का सेवन करे इससे आपके बच्चे की इम्युनिटी सिस्टम मजबूत बना रहेगा |

वायु प्रदूषण से बचने के लिए क्या करना चाहिए

इस जहरीली गैस से बचने के लिय आप अपने मुंह पर मास्क लगाए रखे और साथ में रात को सोते समय कमरे की सभी खिड़कियाँ बंद करे जिससे बाहर की जो भी गन्दी जहरीली हवा ( air pollutaion ) आपकी चयन भरी नींद तक नही पहुंचे इसके साथ-साथ आप विटामिन c युक्त खाद्य पदार्थो को खाने पिने में ज्यादा ज्यादा इस्तेमाल करे जिससे आपकी इम्युनिटी सिस्टम मजबूत बना रहें जिससे बिमारियों से बचाव में बहुत ही सहायक है पिने के पानी को छानकर रखें तथा पानी को ढककर रखे ताकि बाहर के बेक्टीरिया पानी में जमा ना हो |

प्रदुषण से बचने के घरेलू उपाय | pollution se kaise bache

1 . ‘ निम् ‘ प्रदुषण से बचाने में फायदेमंद है

निम् आपको प्रदुषण में जो बेक्टीरिया होते है उनसे रक्षा करता है निम् की पत्तियों में एंटी बेक्टिरियल तथा एंटी फंगल के गुण मोजूद होते है जो आपकी स्किन तथा बालो में जो बेक्टीरिया या जीवाणु होते है उनको मारने में सहायता करता है और साथ में जो बोडी के अंदर खाने पिने या फिर सांसो के जरीय अंदर जो बेक्टीरिया या जीवाणु होते है उनको मारने में भी सहायक होता है तथा त्वचा पर फंगल इन्केशन से बचाव करता है यह हमारे रक्त की शुद्धिकरण करने में भी फायदेमंद होता है |

2 . प्रदुषण से बचने के उपाय में सरसों का तेल किफायती है

सरसों का तेल हमारे स्वास्थ्य के लिय एंटी ओक्सिडेंट का कार्य करता है कई बार प्रदुषण की चपेट में आने से या फिर दुल मिटटी के कण आपकी श्वसन नलिका के माध्यम से अंदर चले जाते है और कुछ बेक्टीरिया नाक तथा गले में जैम जाते है उनको बोडी से अलग करने में सरसों का कच्ची घानी का तेल काफी फायदेमंद होता है यह आपके बेक्टीरिया तथा फंगल को मारने में सहायता करता है आप सरसों के तेल की 2 बुँदे अपने नाक में डाले इससे आपकी नाक में जो जीवाणु होते है वे बाहर निकालने में सहायता करेगा और जो पेट तथा आंतो में इन्फेक्शन है उनको मारने के लिय आप खाना कच्ची घानी का सरसों तेल उपयोग में लेना फायदेमंद होता है |

जरुर पढ़ें – सरसों का तेल काफी बीमारियों को दूर करता है

3 . गाय का घी प्रदुषण से बचाव करता है | बच्चो को प्रदुषण से कैसे बचाए

फ्रेंड्स घी के अंदर जो आयुर्वेदिक ओषधिय गुण होते है जो आपकी बोडी में जो बेक्टीरिया या जीवाणु होते है उनको गुदा द्वार से बाहर निकालने में मदद करता है घी हमारी बोडी में एंटी ओक्सिडेंट तथा एंटी इन्फ्लेमेट्री का कार्य करता है जोकि आपके पाचन तन्त्र को मजबूत बनाता है और भोजन को पचाने के लिय जो पाचक रस या ओमैगा 3 , ओमैगा 6 , फैटिक एसिड , एमिनो एसिड सहायक होते है उनके निर्माण करने में सहायता करता है इसलिय आप अपने बच्चो को प्रदुषण से बचाव के लिय शुद्ध देशी घी को खाने में देना चाहिय |

4 . बच्चो को प्रदुषण से बचाव के लिय अश्वगंधा और त्रिफला उपयोगी है

आयुर्वेद कहता है की छोटे बच्चो को प्रदुषण से बचाने में आयुर्वेद के त्रिफला चूर्ण और अश्वगंधा पावडर काफी फायदेमंद होते है यह आपके बच्चे की इम्युनिटी सिस्टम को काफी स्ट्रोंग करता है तथा बच्चो के शरीरिक विकास एवं सर्दी झुकाम के सीजन में बलगम से बचाने में सहायता करता है यह बोडी को डिहाइड्रेशन ( निर्जलीकरण ) होने से बचाव करता है तथा आपके पाचन क्रिया को काफी मजबूत बनाने में सहायता करते है |

यह बोडी के लिय एंटी ओक्सिडेंट तथा एंटी इन्फ्लेमेट्री का काम करते है आज आयुर्वेद ने बच्चो के शरीरिक तथा मानसिक विकास को तंदुरुस्त बनाने के लिय बहुत से उपचार है जो आपके बच्चो को विकसित करने में मदद करते है आप सुबह और श्याम चुटकी भर अश्वगंधा और त्रिफला चूर्ण दूध के साथ पिलाए जिससे आपके बच्चे की भूख भी काफी तेज होगी |

और पढ़े – यौवन शक्ति को दोगुना करने में अश्वगंधा के अदभुत फायदे

5 . तुलसी और लौंग बच्चो को पोल्यूशन से बचने में सहायक है

आप अपने बच्चे को एक गिलास पानी के अंदर 3 से 4 पत्तियां तुलसी की और साथ में 5 से 6 लौंग की कल्लियाँ डालकर इस पानी को इतना उबाले की पानी केवल एक कप ही बच्चे तब आप इसे छान लेना है इसमें फिर आप घर में जो हनी जिसे शहद कहते है उसकी एक चमच मिलकर बच्चे को रात को खाना खाने के एक घंटे बाद अगले 4 से 5 दिनों तक लगातार पिलाए इससे बच्चो के अंदर जो भी प्रदुषण के कारण बेक्टीरिया होते है यह बेक्टीरिया फेफड़ो तथा आंत को अधिक प्रभावित करते है यह सब बिलकुल मर जाएँगे |

और पढ़ें – तुलसी के अनेको फायदे

बच्चो को प्रदुषण से बचाव के आयुर्वेदिक उपचार | प्रदूषण से बचने के उपाय

आयुर्वेद कहता है की प्रदूषण से बचने के उपाय में अपने बच्चो को प्रदुषण से बचने के लिय बच्चो को घर पर ही रखे और बच्चो के खाने पर विशेष ध्यान रखे और साथ में सुबह जल्दी उठकर बच्चो को व्यायाम जैसे अनुलोम विलोम कपालभाती जैसे व्यायाम करवाए ताकि बच्चो की भूख को बढ़ाने तथा शरीरक विकास में वृद्धि होती है साथ जो विटामिन c के खाद्य पदार्थ है उनका जूस भी खाने में इस्तेमाल करे और आयुर्वेद के त्रिफला चूर्ण आमा हल्दी , आंवले का मुरब्बा जैसे पदार्थ खिलने से आपके बच्चे की इम्युनिटी सिस्टम काफी स्तोरंग होगा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित होगी |

प्रदूषण रोकने के उपाय wikipedia

दोस्तों वैसे तो प्रदुषण से बचने का सबसे आसन उपाय है की आप अपने मुहं पर मास्क का उपयोग करे वाही अगर आप एइक्बर किसी भी प्रदुषण से परेशां है तो आपके खान पान में विटामिन c के स्रोतों का जूस का इस्तेमाल करे यह आपकी बोदी में फ़िल्टर का कार्य करता है क्योकि बोदी में जो बेक्टीरिया या जीवाणु है उनको नष्ट करने में विटामिन c के श्रोत जैसे निम्बू , आंवला , संतरा , लीची आदि साथ में सोडा वाटर भी काफी लाभदायक है लेकिन इनके साथ-साथ आप परहेज ही सबसे बड़ा उपाय है प्रदूषण से बचने के उपाय

वायु प्रदूषण के दुष्प्रभाव हमारे जीवन में

प्रदूषण से बचने के उपाय – एकबार जब व्यक्ति वायु प्रदुषण का शिकार हो जाता है तो उस स्थति में सबसे ज्यादा हमारे लंग्स यानि फेफड़े प्रभावित होते है इससे बोदी में ऑक्सीजन का स्तर बिलकुल कम हो जाता है जिससे साँस लेने में काफी बड़ी दिकत होती है और साथ में बलगम , कफ , आदि की प्रोबलम हो जाती है |

Advertisement

Leave a Comment