थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार | Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार ( Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies ) थायराइड ग्रंथि हमारे शरीर के उपरी भाग के आहार नाल के पास स्थित होती है जो की हमारी बोडी के अंदर मेटाबोलिक तत्वों को नियंत्रित करती है थायराइड ग्रंथि का कार्य है की ये हमारे वजन एवं अन्सुलित भोजन को अलग कर उनका उपापचय का कार्य करती है हमरे गल्ले में तितली के समान विराजमान होती है जब थायराइड पर किसी तरल पदार्थ का आक्रमण होता है तो फिर ये विकराल रूप में बढ़ना शुरू हो जाती है पुरुषो की वजाय महिलाओ में थायराइड होने की सम्भावना ज्यादा होती है ये थायराइड खान पान में आयोडीन की कमी के कारन तथा मानसिक तनाव के बढने से , शरीर में हार्मोन्स की वृद्धि होने से थायराइड बढ़ना शुरू हो जाता है

Table of Contents

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

thyroid symptoms home remedies thyroid in hindi | थायराइड की कोनसी जाँच होती है |  thyroid symptoms cure thyroid | थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार | Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies | थायराइड को दूर करने के घरेलू उपचार | thyroid treatment | Thyroid Home Remedies | Thyroid ke Ayurvedic Treatment | Thyroid ke Ayurvedic Upaay | Thyroid Kaise Theek Hoga |

Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies

लेकिन आयुर्वेद कहता है की थायराइड हमारी बोडी के अंदर वात और कफ बढ़ने से उनका संतुलन न होने के कारन हमे थायराइड का शिकार हो जाते है और पुराने ज़माने में कहते थे की थायराइड आनुवंशिकी बीमारी है अगर आपके परिवार के किसी एक सदस्य को पहले से ही थायराइड थी तो उनके परिवार के किसी भी सदस्य को होने की पूरी पूरी सम्भावना होती है लेकिन दोस्तों आपको घबराने की बिलकुल चिंता नही करनी है इस थायराइड को ठीक करने के लिय आप अपने घरेलू सामग्रियों के माध्यम से भी ठीक कर सकते है और आयुर्वेद भी थायराइड का बहुत अच्छी तरह से इस थायराइड का परफेक्ट उपचार करता है

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

आयुर्वेद इसके इलाज में शरीर के वात और कफ दोष को दूर करता है अभी आपके ऐसे बहुत के सवाल है की थायराइड किस कारन से होती है , थायराइड के लक्षण क्या होते है , और थायराइड की कोनसी जाँच करवानी चाहिय और भी आपके सवाल है उनको आज हम क्लियर करंगे इस आर्टिकल में आप बस इन घरेलू उपचारों तथा आयुर्वेदिक उपचारों को ध्यान से पढना है |

थायराइड को दूर करने के घरेलू उपचार | Home Remedies to Cure Thyroid

Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies ) थायराइड ग्रंथि हमारे शरीर के अंदर कंठ में स्थित होती है जिसका कार्य है बोडी को मेटाबोलिक को नियंत्रण करने एवं खान – पान की अशुद्धियो को अलग करने का कार्य करता है थायराइड शरीर में आयोडीन की कमी से होता है जिसे गलगंड रोग भी कहा जाता है थायराइड की वजह से शुगर ला लेवल भी बढ़ता है और शरीर के अंदर मोटापा भी बढ़ने लगता है साथ हमरे शरीर के अंदर हार्मोन्स में कमी और वृद्धि के कारन भी थायराइड रोग उत्पन होता है एक बार आपको थायराइड होने पर गले एवं जहा पर थायराइड की समस्या है वंहा पर सुजन देखने को मिलता है जिससे शरीर में उर्जा की हनी होती है और अनेको रोगों की संख्या भी बढ़ने लगती है |

थायराइड क्या है | What is Thyroid

thyroid चने के समान हमारे गली के अंदर तितली के आकार में होती है जिसका कार्य है हमारे शरीर की मेटाबोलिक का प्रसारण करती है और ये हार्मोन्स के स्राव से उत्पन्न होती है थायराइड ग्रंथि को अवटु ग्रंथि भी कहते है थायराइड को दो भागो में वर्गीकृत किया है 1 हाइपर थाइरोइड 2 हाइपो थाइरोइड जिसे doctor की भाषा में Hyperthyroidism , Hypothyroidism कहा जाता है |

ये बीमारी शरीर में हार्मोन्स की वृद्धि और कमी दोनों की वजह से हो सकता है इसका कार्य प्रोटीन , विटामिन का निर्माण करना है थायराइड ग्रंथि मानव शरीर के सभी अंत स्रावी ग्रंथियों में से एक है इसके द्वारा शरीर की अनेक गतिविधियों पर भी नियंत्रण होता है जो की बोडी को नियंत्रण करने में लाभदायक है |

थायराइड किस कारण से होता है | What Causes Thyroid

  • थायराइड विशेषकर महिलाओ में पाया जाता है
  • ये बीमारी व्यक्ति के मानसिक तनाव बढ़ जाने से भी इस बीमारी का शिकार हो जाता है
  • शरीर के अंदर हार्मोन्स की कमी या वृद्धि हो जाने से भी उत्पन्न होता है
  • भोजन में नमक या आयोडीन की कमी होने पर थ्य्रैद ग्रिन्थी का विकास होता हिया
  • बोडी में मेटाबोलिक का प्रसार बढ़ने से भी होता है
  • शुगर और कोलेस्ट्रोल में अचानक वृद्धि होने पर भी थायराइड जैसी अनेको बीमारिया उत्पन्न होती हिया
  • थायराइड को अवटु ग्रंथि भी कहते है
  • हार्मोन्स वाले भोजन जैसे कोलेस्ट्रोल , केल्शियम , प्रोटीन अमिलो अम्ल में वृद्धि होने से भी थायराइड का निर्माण होता है
  • वजन में लगातार वृद्धि होने पर भी थायराइड जैसी बीमारी को बढ़ावा मिलता है

Thyroid होने के लक्षण क्या होते है | What are The Symptoms of Thyroid

थायराइड की बीमारी के कारन शरीर में अनेको बीमारिया उत्पन होती है अगर आपको ये बीमारी ग्रसित हो जाती है तो आपको पहचान के लिय निचे बताए गए लक्षणों को नजर अंदाज न करे तुरंत जाँच या इन घरेलू आयुर्वेदिक उपचार करवाए

  • गल्ले में जिससे आहार नाल में सुजन रहना
  • कब्ज की समस्या होना
  • दिन में बार बार भूख लगाना
  • शरीर में मेटाबोलिज्म के निर्माण में कमी होना
  • वजन बढ़ने में लगातार इजाफा होना
  • खून का परिसंचरण धीमा हो जाना
  • चिडचिडापन दिखाई देना
  • शरीर पर पसीने में कमी आना
  • भोजन अवसाद होना
  • सिर के बल टूटना या झड़ना
  • दिन में थकान महसूस होना
  • त्वचा स्किन की चमड़ी रुखी सी रहना
  • याद करने की स्मृति कमजोर हो जाना
  • थायराइड के कारन महिलाओ में बाँझपन की समस्या हो जाती है
  • आँखों के चारो और सुजन रहना
  • कोलेस्ट्रोल में लगातार वृद्धि हो जाना
  • महिलाओ में मासिक धर्म का टाइम कम ज्यादा होना

थायराइड को कितने भागो में विभाजित किया गया है

थायराइड को दो भागो में विभाजित किया है इन दोनों का संतुलन बने रहने से ही शरीर में मेटाबोलिक में लगातार वृद्धि होती है जिससे मोटापा बढ़ने से रोकता है |

1 . अतिसक्रियता (Hyperactivity ) 2 . अल्प सक्रियता (Hypoactivity )

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

थायराइड को दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपाय

अश्वगंधा थायराइड के लिय रामबाण उपाय है

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार ( Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies ) थायराइड को दूर करने में अश्वगंध का चूर्ण भी बहुत ही फायदेमंद आयुर्वेदिक ओषधि है इसके चूर्ण को आप सुबह श्याम खाना खाने के बाद गर्म दूध के साथ मिक्स करके सेवन करने से आपकी अवटु ग्रंथि को विकसित करता है अश्वगंध आपके शरीर के जितने भी हार्मोन्स है उनकी वृद्धि करने में काफी सहायक है इसका सेवन अगर आप अगले 15 से 20 दिन तक करते हो तो आपको रिजल्ट देखने को मिलेगा |

थायराइड को दूर करने में नारियल का तेल बेस कीमती है

नारियल भी आपके शरीर की फेट या चर्बी को घटने में काफी मदद करता है ये तेल आपके शरीर का मेटाबोलिज्म को बढ़ाने में कामगार है इससे आपकी बोडी का तापमान भी मेंटेन होता है क्योकि नारियल के तेल में फैटी एमिनो अम्ल पाया जाता है नारियल के तेल को आप गर्म पानी में डालकर सुबह श्याम पिने से आपकी थायराइड समस्या दूर होती है |

अदरख का उपयोग थायराइड के लिय बेस्ट माना गया है

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार ( Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies ) अदरख में पोटेशियम और मैग्नीशियम की मात्रा प्रचुर होती है जिससे आपको याद करने की क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है जिससे आपका कोलेस्ट्रोल लेवल सामान्य होता हिया जो की थायराइड के लिय सबसे अच्छा प्रयोग माना गया है अगर आप अदरख की चाय या रस को आप दूध के साथ मिलकर इसका सेवन करने से थायराइड पर रोक लग सकती है इसको आप नियमित रूप से कुछ दिन तक उपयोग में लेना है |

मुलेठी से भी थायराइड का उपचार होता है

थायराइड के लिय मुलेठी को भी आयुर्वेद ने टोनिक जड़ी बूटी माना है कहते है की अगर आप मुलेठी के चूर्ण पावडर को आप गुनगुने पानी या दूध के साथ मिक्सर करके सुबह श्याम दोनों टाइम प्रयोग में लेते हो तो आपकी थायराइड को मजबूत बनता है जिससे आपके हार्मोन्स में वृद्धि करता है मुलेठी के चूर्ण में  ट्रीटरपेनोइड ग्लाइसेरीथेनिक एमिनो अम्ल की प्रचुरता होती है जिसका कार्य है शरीर की शुगर लेवल एवं पाचन क्रिया के लिय मदद करता है |

कब्ज को दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार |

थायराइड का घरेलू उपाय हरा धनिया भी है

हरा धनिया भी बेस कीमती पोधा है इसका रस एवं पत्तिया काफी फायदेमंद है हरे धनिये को आप बारीक़ मिक्सर के जरीय पिस लेना है और उसमे थोडा मिश्री पावडर को भी मिक्स कर एक गिलास पानी के साथ मिलकर आप नित्य इसका सेवन करते हो तो आपको थायराइड से बचाने में मदद करता है और साथ में दिमाग या पेट के नादर गर्मी को दूर करने में काफी सहायक है |

Thyroid के लिय हरड और त्रिफला का उपयोग भी घरेलू उपचार में आता है

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार ( Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies ) त्रिफला और हरड के को आप हलकी आंच पर पकाकर इसके चूर्ण को आप पीसकर एक कांच के जार में रख लेना है इसको आप सुबह श्याम गुनगुने पानी के साथ मिलाकर पिटे हो तो धीरे धीरे ये आपकी आहार नाल में जो अवटु ग्रंथि या थायराइड ग्रंथि है उसको मेंटेन करने में कम करती है इसके मिश्रण को आप एक चमच रोज दोनों टाइम उपयोग में लेना है |

अलसी के बिज थायराइड को दूर करता है

अलसी के बीज को अआप हलकी आंच पर पकाकर उसको पीसकर अगर आप सुबह और श्याम को खाना खाने के बाद दूध या गुनगुने पानी के साथ उसे मिक्स करके पिने से भी थायारिड में आराम मिलता है अलसी आपकी बोडी को डी टोक्सिफई फै करने में मदद करती है और साथ में आपके पेट की पाचन क्रिया को मजबूत भी करती है आप इसका प्रयोग नियमित रूप से करते हो तो आपको जल्द ही आराम मिलेगा |

थायराइड के रोगी को कैसा भोजन करना चाहिय

थायराइड से पीड़ित व्यक्ति को खाने में तेलिय पदार्थो से बनी वास्तु से दूर रहना चाहिय उनको भोजन में ज्यादा दही और दूध का सेवन करना चाहिय जिससे आपकी बोडी को उर्जावान बनता है जिससे शुगर का लेवल भी मेंटेन होता है |

तुलसी के पत्तो का रस भी थायराइड के रोगी का बेस्ट इलाज है

थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार ( Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies ) तुलसी एक आयुर्वेदिक ओषधि है जिसका सेवन अगर आप दूध के अथ रोज पीते हो तो आपको जल्द ही थायराइड जैसी बीमारियों से छुटकारा मिलेगा तुलसी के पत्तो को आप ऐसे ही चबाकर भी खाने में पानी के साथ पि सकते हो |

थायराइड के रोगी के लिय एक्यूप्रेशर भी कम करता है

एक्यूप्रेशर के द्वारा भी शरीर के बहुत से रोगों से निजात आराम मिलता है वैसे ही थायराइड के लिय भी फायदेमंद है अगर आप हाथ और पैर के अंगूठे को निचे की और ऊपर उठे हुए भाग को बाएँ से दाएं की और दबाते हो तो आपको थायराइड से आराम मिलेगा और थायराइड को स्थिर बनाने में कामगार है |

गाय का मूत्र और अर्क भी थायराइड के रोगी का घरेलू उपचार है

दोस्तों अगर आप गाय के मूत्र और अर्क को सुबह खाली पेट इसका रोज उपयोग करते हो तो आपको थायराइड के लिय आयुर्वेद से बढ़िया उपाय बताया है ऐसा करना प्रत्येक व्यक्ति के बस की बात नही है परन्तु ऐसा करने से जरुर आपको जल्द ही लाभ मिलेगा |

थायराइड के रोगी को क्या नही खाना चाहिय

  • इसके रोगी को कभी भी तेलिय पदार्थो से बनी जैसे मिट मछली और चिकन का परहेज रखे
  • दारू शराब एवं पान तम्बाकू के सेवन का प्रयोग बिलकुल न करे
  • थायराइड की शिकार खासकर हमारे भारत देश में महिलाए ज्यादा होती है उनको दिन में बार बार पानी पीना चाहिय
  • इस रोग से ग्रसित व्यक्ति को कभी भी पता गोभी और फुल गोभी की सब्जी का सेवन नही करना चाहिय
  • मीठा बेसन एवं मेदे से भी दूर रहना चाहिय
  • थायराइड के रोगी को हर 3 से 4 महीने पर शरीर की जाँच जैसे ब्लड जाँच , कोलेस्ट्रोल जाँच , यूरिन जाँच करवाते रहना चाहिय जिससे आपके शरीर की थायराइड का पता चल सके
  • डोक्टर को सलाह के अनुसार जो मेडिसिन बताई गई है उनको समय पर लेना चाहिय
  • फ्रिज में रखी ठंडी वस्तुओ का उपयोग नही करना चाहिय
  • कद्त्हीं परिश्रम नही करना चाहिय

थायराइड के रोगी को कोनसे योग करना चाहिय

  • थायराइड के रोगी को सुबह उठाकर अनुलोम – विलोम
  • सूर्यनमस्कार योग
  • प्राणायाम करना चाहिय
  • कपल भाती
  • हलासन सर्वांगसन
  • मत्स्य्लासन इत्यादि योग आपको थायराइड से बचने में सहायक है

thyroid symptoms home remedies thyroid in hindi , थायराइड की कोनसी जाँच होती है ,  thyroid symptoms cure thyroid , थायराइड के लक्षण एवं दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार , Thyroid Symptoms and Home Ayurvedic Remedies , थायराइड को दूर करने के घरेलू उपचार , thyroid treatment ,थायराइड किस कारण से होता है What Causes Thyroid ,  thyroid weight gain ,  thyroid gland thyroid test thyroid problem ,  थायराइड को दूर करने के घरेलू आयुर्वेदिक उपाय , Thyroid Home Remedies , Thyroid होने के लक्षण क्या होते है , Thyroid Ayurvedic Treatment , थायराइड को जड़ से ख़त्म करने के लिय क्या करे , Thyroid ke Ayurvedic Upaay , Thyroid Problem in men , थायराइड को जड़ से ख़त्म करने का उपाय बताओ , Thyroid ki Samasya ,  Thyroid Kaise Theek Hoga ,

थायराइड से समन्धित मोस्ट पोपुलर प्रशन और उतर

थायराइड को जड़ से ख़त्म करने के लिय क्या करे

इस बीमारी को जड़ से मिटाने के लिय आपको अच्छे पोष्टिक तत्व जैसे दही दूध एवं फाइबर युक्त जितने भी फल एवं फ्रूट्स का सेवन करना चाहिय साथ में मुलेठी के चूर्ण का भी प्रयोग करना चाहिय |

गले में थायराइड के लक्षण

अगर आपको गले में थायराइड हो गई है इसका पता आपको आपके गले से सुजन एवं खाने पिने में दिकत होगी तथा चेहरे पर उदासी की झलक देखने को मिलेगी |

थायराइड को जड़ से ख़त्म करने का उपाय बताओ

इस बीमारी का रामबाण उपाय है अश्वगंधा है अगर आप नियमित रूप से सुबह और श्याम दोनों समय अश्वगंधा के चूर्ण पावडर को पानी या गर्म दूध के साथ रोजाना सेवन करते हो और मेटाबोलिक तत्वों को उपयोग में लेते हो तो आपको जल्द ही जड़ से ख़त्म हो जाएगी |

एक व्यस्क व्यक्ति के अंदर थायराइड कितना होना चाहिय

एक स्वस्थ व्यक्ति के अंदर थायराइड की मात्रा 0.4 से 5 mm के बिच तक के व्यक्ति को स्वस्थ माना जाता है |

थायराइड की कोनसी जाँच होती है

थायराइड के रोगी को शुरूआती दिनों में बल्ड जाँच तथा T3 और T4 जाँच करवाने से आपकी थायराइड का पता चल जाता है |

पथरी को निकालने का सबसे आसान तरीका | Easy Way to Remove Kidney Stone

Leave a Comment